महाराष्ट्र से फिर हुई बंधुआ मजदूरों की वापसी

पुलिस ने 42 मजदूर सहित 65 लोगों की क्षेत्र में वापसी करवाई

✍️इम्तियाज खान intu
बड़वानी। रोजगार की तलाश में बाहर राज्यों में जाने वाले मजदूरों को बंधुआ बनाने के आए दिन मामले सामने आ रहे है। इसकी शिकायत पुलिस प्रशासन सतत प्रयास कर मजदूरों की वापसी करवा रहा है। ऐसे ही मामले में पाटी क्षेत्र के तीन गांवों के 42 मजदूर सहित 23 बच्चों को ग्राम सांगवी-सतारा-महाराष्ट्र में गन्ना कटाई के लिए गए थे। जिन्हें बंधुआ बनाकर मजदूरी कार्य करवाया जा रहा था। शिकायत पर पुलिस ने कार्रवाई कर इन लोगों की क्षेत्र में वापसी करवाई।
पाटी थाना प्रभारी रामकृष्ण लववंशी ने बताया कि गत सप्ताह सूचना मिली थी कि क्षेत्र के ग्राम कुली, खेरवानी, घोंघसा, कंडरा के मजदूर मजदूरी के लिए सांगवी जिला सतारा महाराष्ट्र में गन्ना कटाई के काम से गए थे। वहां पर उन्हें सही मजदूरी नहीं दी जा रही और प्रताड़ित किया जा रहा है। उन्हें वापसी के लिए पुलिस को ग्रामीणों ने अवगत कराया था। इस पर एसपी दीपक कुमार शुक्ला के निर्देशन में प्रशासन ने सतारा प्रशासन से संपर्क कर वहां फंसे मजदूरों की वापसी के लिए पत्राचार किया। इसके बाद महाराष्ट्र पुलिस ने कार्रवाई कर 42 मजदूरों और 23 बच्चों को रेस्क्यू कर सामाजिक संगठन की मदद वाहन के माध्यम से 800 किमी दूर पाटी थाना लाने में सहयोग किया। बता दें कि अब तक पुलिस क्षेत्र के 500 से अधिक ऐसे मजदूरों की वापसी करवा चुकी हैं, जो महाराष्ट्र व कर्नाटक राज्य में गए थे और बंधुआ होकर मजदूरी कर रहे थे।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com