लू की चपेट में पूरा उत्तर भारत, पहाड़ भी हुए गर्म, गर्मी की तपिश से लोग बेहाल, 5 की मौत

भीषण गर्मी और लू का कहर अब जानलेवा हो गया है। पश्चिमी उप्र में गर्मी की तपिश और लू से लोग बेहाल रहे। वहीं, प्रदेश के अलग-अलग जिलों में पांच लोगों की लू की चपेट में आने से मौत हो गई। लू का असर सिर्फ मैदानी राज्यों में ही नहीं बल्कि पहाड़ों पर भी दिखा। यहां हिमाचल के ऊना में पारा 42 डिग्री को पार कर गया। इससे पहाड़ों पर भी मौसम गर्म बना हुआ है। वहीं, मौसम विभाग ने दो दिन और लू से राहत नहीं मिलने की बात कही है।

उत्तर प्रदेश में रविवार को सबसे ज्यादा तापमान बांदा में 49 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं, महोबा में अधिकतम तापमान 47 डिग्री रहा। वहीं, हरियाणा में भी तापमान 48 के पास पहुंच गया है। प्रदेश का नारनौल 47.6 डिग्री तापमान के साथ सबसे ज्यादा गर्म रहा।

पंजाब में भी गर्मी का कहर जारी है। इसके अलावा राजस्थान में भी छह शहरों का पारा 47 डिग्री से ऊपर रहा। राजस्थान के चुरू में शनिवार को 50.8 डिग्री तापमान था। जबकि रविवार को यह 48.9 दर्ज किया गया। इसके अलावा प्रदेश के श्रीगंगानगर और बीकानेर में भी पारा 48 डिग्री से ऊपर रहा। जबकि बाड़मेर, जैसलमेर और कोटा में 47 से ज्यादा रहा। मौसम विभाग ने अभी प्रदेश में लू के हालात जारी रहने की आशंका व्यक्त की है। वहीं, 15 जिलों के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है।

लू से दो दिन और नहीं मिलेगी राहत, दी चेतावनी

आइएमडी के मुताबिक, अगर किसी जगह का तापमान लगातार दो दिन तक 45 डिग्री से ज्यादा रहता है तो इसे लू कहा जाता है। वहीं, अगर तापमान 47 डिग्री से ऊपर रहे तो इसे गंभीर की श्रेणी में रखा जाता है। ऐसे में विभाग ने अगले दो दिन तक लू से राहत नहीं मिलने की बात कही है। इसे देखते हुए चेतावनी भी जारी की गई है।

आंधी-बारिश से मिली राहत

उत्तर प्रदेश के बांदा में जहां दोपहर तक सबसे ज्यादा तापमान दर्ज हुआ। वहीं, दोपहर बाद आई आंधी-बारिश के साथ हुई ओलावृष्टि ने लोगों को कुछ राहत दी है। आंधी बारिश के कारण गिरे पेड़ और खंभों की चपेट में आने से दो लोगों की मौत भी हुई है। वहीं, उत्तराखंड में भी हल्की फुहारों ने मौसम का मिजाज बदल दिया है। प्रदेश के चमोली, रुदप्रयाग पिथौरागढ़ और उत्तरकाशी के अलावा देहरादून और हरिद्वार में हल्की बारिश ने सुकून का एहसास कराया।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com