पश्चिमी देशों में रहने वाले भारतीयों ने की वोट डालने की अपील

दक्षिणी कैलिफोर्निया, लॉस एंजिल्स और सैन फ्रांसिस्को में भाजपा समर्थकों ने रैलियों और चाय पे चर्चा के जरिए भाजपा का प्रचार किया। इसमें सबसे बड़ी भूमिका ओवरसीज फ्रेंड्स ऑफ बीजेपी की रही। यह पश्चिमी देशों में काफी बड़ा संगठन बन गया है। अमेरिका में इसके 4 हजार से ज्यादा सदस्य हैं और 3 लाख से ज्यादा समर्थक इन आयोजनों में शामिल हो चुके हैं। स्थानीय अखबारों से लेकर सोशल मीडिया तक में उनके कैम्पेन जारी हैं। अमेरिकी भारतीयों में इस बार भारतीय चुनावों को लेकर जो माहौल है वह पहले शायद ही देखने को मिला हो।

अमेरिका में सैन फ्रांसिस्को के जिस इलाके में हम रहते हैं वह बे-एरिया कहलाता है। कैलिफोर्निया के इसी इलाके में सिलिकॉन वैली भी है, जहां गूगल, एपल, सिस्को, एचपी जैसी आईटी और टेक्नोलॉजी कंपनियों के मुख्यालय हैं। करीब 88 लाख की आबादी में 32% से ज्यादा लोग दूसरे देशों के हैं, जिनमें 33% से ज्यादा एशियाई मूल के हैं। एच1-बी वीजा पाने वालों में भारतीय सबसे आगे हैं जिनकी बड़ी संख्या इसी इलाके में है।

‘चर्चा में केवल नरेंद्र मोदी और राहुल’
मैं घर से थोड़ी दूर एक भव्य मंदिर में लगभग रोज ही जाती हूं जहां भक्ति के साथ भारत में हो रहे लोकसभा चुनाव की चर्चाएं भी सुनने को मिलीं। बहस के केंद्र में राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी ही रहे। इस बार भारतीय अर्थव्यवस्था के अलावा दो महत्वपूर्ण मुद्दे भी देखने को मिले- राष्ट्रीय सुरक्षा और धार्मिक आजादी। कश्मीर में सेना पर हुए आतंकी हमले के बाद से लोगों में यहां भी गुस्सा है। कई भारतीय और भाजपा समर्थकों ने मोदी, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और वर्ल्ड लीडर्स से पाकिस्तान को सबक सिखाने की अपील की।

‘नोटबंदी से नाराजगी’
अमेरिका में ही रह रहीं एक और भारतीय मीता नोटबंदी की वजह से मोदी से नाराज हैं। वे पहले मोदी को पसंद करती थीं। मीता के मुताबिक- मोदी ने नोटबंदी के बाद कहा कि जिन नोटों को बंद किया गया है, उन्हें बदलने में कोई परेशानी नहीं होगी। हम समय निकालकर नोट बदलवाने गए, लेकिन बहुत इंतजार और परेशानियों के बावजूद काम नहीं हुआ। मेहनत से कमाया पैसा बर्बाद हो गया।

रिश्तेदारों से वोट डालने की अपील
अमेरिका में ज्यादातर भारतवंशियों के पास भारतीय नागरिकता नहीं है। लिहाजा वे भारत में वोट नहीं डाल सके, लेकिन उत्साह इतना है कि भारत में अपने दोस्तों, रिश्तेदारों को फोन कर वोट डालने की अपील कर रहे हैं। इसके लिए वे सोशल मीडिया का भी जमकर इस्तेमाल कर रहे हैं।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com