स्याही को हथियार बनाकर हमला करने वालों पर धिक्कार

🔴 किसान नेता राकेश टिकैत पर हमले का नबआं ने जताया विरोध

 दैनिक हमारा मैट्रो, बड़वानी

नर्मदा बचाओ आंदोलन ने किसान नेता राकेश टिकैत पर कर्नाटक में हुए हमले की निंदा की है। इसको लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचकर राष्ट्रपति के नाम का ज्ञापन डिप्टी कलेक्टर अंशु जावला को सौंपा।

नबआं की कमला यादव ने कहा कि राकेश टिकैत, जिन्होंने संयुक्त किसान मोर्चा के सबसे व्यापक समन्वय को अपनाकर, किसान आंदोलन को एक महत्वपूर्ण योगदान दिया, उन्हें हमले का लक्ष्य बनाकर क्यों घटी यह हकीकत। अब जिन्हें हमले के लिए गिरफ्तार किया गया है, वो पूर्ण जेल में रह चुका अपराधी है और वो भाजपा के मुख्यमंत्री और नेताओं के साथ जुड़ा हुआ साबित हो चुका है।

नबआं के मुकेश भगोरिया ने कहा कि कर्नाटक जैसे कुछ राज्यों में जहां धर्मांध हिंसा जारी है, वहीं किसान आंदोलन को भी बदनाम करने की कोशिश करने वाले कई लोग, समुदाय और दल भी है। उन्होंने ही अलग-अलग प्रकार की हिंसा को अपनाकर जिस प्रकार से सामाजिक कार्यकर्ता, जन आंदोलन को लक्ष्य बनाया है। उसमें से एक प्रकार है, राकेश टिकैत  पर हुआ हमला। एक अपराधी भरत शेट्टी को गिरफ्तार किया है, लेकिन धारा 307 के तहत सजा और अन्य अपराधियों की जांच भी जरूरी है। वहीं कहा कि पत्रकार परिषद में तद्दन अहिंसक कार्य में लगे हुए टिकैत पर माइक और स्याही फेंक कर हमला करना निश्चित ही हिम्मत नहीं कायरता का ही प्रमाण है। साथ ही यह किसानों के नेताओं को ही, नहीं बल्कि हम किसान याने खेती से जुड़े हुए खेत मजदूर, पशुपालक, वनोपज पर जीने वाले आदिवासी और मछुआरे, प्रकृति पर जीने वाले सभी समुदायों के साथ इस प्रकार का दुर्व्यवहार निश्चित ही अन्नदाता और मेहनतकशों की अवमानना है।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com