‘ सोरायसिस ‘ एक त्वचा का रोग है – डाॅ. मीना तांदले – आयूर्वेदाचार्य

‘ सोरायसिस ‘ एक त्वचा का रोग है |

डाॅ. मीना तांदले – आयूर्वेदाचार्य

सोरायसिस  रोग में शरीर की त्वचा पर अत्यंत खुजली एवं दर्द  से युक्त  लाल चकत्ते उभर कर आ जाते हैं जो  समय के साथसुखकर त्वचा पर एक सतह का रूप ले लेते है |  खुजली करने पर यह सुखी सतह रुसी  के रूप में झड़ने लगती  है और  त्वचाकी सतह पर  दरार पड़ खून बहने लग जाता है |

सोरायसिस छूने से नहीं फैलता परन्तु यह  रोग अपनी कुरूपता के  कारण रोगी के शरीर के साथ -साथ उनके मन को भीइतनी बुरी तरह से त्रस्त कर देता है कि सोरायसिस के  रोगी अक्सर अपनी इस बीमारी की  वजह से हीन भावना से ग्रसित होजातें  है  | भारत में लगभग  एक करोड़ से अधिक लोग इस रोग से प्रभावित हैं |

इस रोग का मूल कारण अभी तक ज्ञात नहीं है किन्तु यह रोग वंशानुगत प्रवृत होता हुआ एवं  आमतौर पर कुछ कारण जैसेमानसिक तनाव, खमीर से उत्पन्न बने पदार्थों का सेवन  , शराब पीना आदि   द्वारा अधिक विकृत होता हुआ व शरीर  मेंअधिक तेजी से फैलता हुआ देखा गया है |

अक्सर सोरायसिस का निदान / पहचान चिकित्सकगण इसके लक्षणों के आधार पर ही कर लेते है किन्तु इसका निश्चित निदानस्किन बॉयोप्सी से किया जाता है | इसके लिए चिकित्सक  सोरायसिस रोग से प्रभावित हुई  त्वचा का छोटा सा नमूना लैब मेंजांच कराने के लिए भेजते है | यह रोग भलीभांति चिकित्सा किये जाने पर पूर्ण रूप से ठीक हो सकता है | इसकी चिकित्सा में शरीर की शुद्धि -पंचकर्म  एक महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करता है जिसके कारण  पुराने मर्ज को भी पूर्णतः ठीक करने में बहुतमदद मिलती है।

 प्रिवेंटिव मेजर्स :

१. आयुर्वेद में अट्ठारह प्रकार के विरुद्ध आहार का  वर्णन है जिनके प्रयोग से शारीरिक तत्त्व जल्दी विकृत हो जाते है | इनअट्ठारह विरुद्ध आहार में से  निम्नलिखित  विरुद्ध आहार का विशेष ध्यान रखें :

* ठण्डे व गरम पदार्थों का एकसाथ सेवन न करें  जैसे गरम भोजन के साथ कोल्डड्रिंक्स, ठंडा पानी आदि न पियें  |

* दूध में  फल , नमक मिश्रित पदार्थ व  खट्टे पदार्थ मिलाकर न  पियें |

२. वंशानुगत  देखे जाने के कारण  यदि  परिवार में माता पिता आदि  किसी को सोरायसिस है तो स्वयं के शरीर की शुद्धिपंचकर्म द्वारा  साल में एक बार अवश्य कराएं |

क्यूरेटिव मेजर्स :

1. औषध :

अभ्यन्तर प्रयोग :

 

निम्नलिखित औषधियाँ सोरायसिस के उपचार में कार्यकारी सिद्ध होती है , इनका प्रयोग  वैद्यगण रोगी की शारीरिक वमानसिक प्रकृति , दोष विकृति , रोग की चिरकालिकता , ऋतू आदि  का ध्यान रख करते है | इसलिए इन औषधियों का प्रयोगकिसी भी वैद्य के  परामर्श उपरांत ही करें :

कैशोर गुग्गुलु

पंचतिक्त घृत गुग्गुलु

महातिक्त घृत

बृहतमंजिष्ठादि कषायं

गिलोय घनवटी

त्रिफला चूर्ण

बाह्य प्रयोग :

१. निम्नलिखित तीन  तेलों के  मिश्रण को  रोज़ सुबह शाम सोरायसिस से प्रभावित त्वचा पर लगायें :

१. नीम तेल – १०० मि.ली.

२. महामरीच्यादि तेल – ६० मि.ली.

३. तुवरक तेल – २० मि.ली.

२. यदि त्वचा  में दरार पड़ खून बहता हो तो चमेली के पत्तों  को पीसकर दिन में एक बार लेप करें |

2. पंचकर्म:

सोरायसिस रोग में शरीर शुद्धि हेतु संपूर्ण पांच कर्म जैसे वमन, विरेचन ,रक्तमोक्षण आदि कराने से लक्षणों में जल्दी आरामपड़ता है |  मानसिक तनाव युक्त सोरायसिस रोगी में रोग  के लक्षण  अधिक  तेज़ी से फैलते हुए  देखे गए हैं इसलिए ऐसेरोगियों में  शिरोधारा  करायें |  यह मानसिक  तनाव को दूर करने के लिए  एक सिद्ध उपचार है |

3. आहार :

अदरख , लसन, का सेवन न करे |

ख़मीर उठकर बने पदार्थ  जैसे  ढोकला, इडली, डोसा, शराब , का सेवन न करे |

 मिर्च -मसाले विशेषतः गरम मसाले का सेवन न करे|

 खट्टे पदार्थ विशेषतः  दही व इमली का सेवन न करे |

एक समय का भोजन गाय  के दूध में  ज्वार की रोटी या भात  मिलाकर  करें |

हर्बल टी :

 निम्नलिखित हर्बल टी शरीर के रक्त को शुद्ध करती | इसका सेवन अन्य रोगी त्वचा  सम्बन्धी विकारों को ठीक करने के लिएभी कर सकते है |

पानी – २ कप

गिलोय- डंठल  – १ इंच

धनिया पाउडर – १ चम्मच

इन सबको धीमी आंच पर १/४ कप पानी शेष रह जाने तक उबालें और छानकर दिन में एक बार रोज़ पियें |

 

4. विहार :

 

सिद्ध जल प्रयोग :

 नीम के  पत्तें –  २०-४०

 सिद्धार्थक चूर्ण –  १० ग्राम

पानी –  २ लीटर

इन सबको  पांच मिनट तक उबालकर छानलें |  सोरायसिस के रोगी अपने नहाने के पानी में इस  सिद्ध जल को  मिलाकररोज़  स्नान करें |

मानसिक तनाव को उत्पन्न

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com