जून में हुई आठ साल में सबसे कम बारिश

जून में इस बार लू के थपेड़ों ने तो तड़पाया ही, बादलों ने भी खूब तरसाया। दिल्ली में जून माह में पिछले आठ सालों की सबसे कम बारिश दर्ज की गई है। इस माह की सामान्य बारिश 65.5 मिमी है, जबकि महज 11.2 मिमी बारिश ही हुई। पालम में तो पिछले 12 सालों की सबसे कम 4.2 मिमी बारिश दर्ज की गई है।

मौसम विभाग की मानें तो जुलाई माह के प्रथम सप्ताह में अच्छी बारिश के आसार नहीं हैं। जून के अंतिम दिन रविवार को भी दिल्ली का अधिकतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री ज्यादा 42.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। न्यूनतम तापमान इस सीजन में पहली बार 32 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। यह सामान्य से चार डिग्री अधिक है।

सबसे अधिक गर्मी पालम में रही, जहां अधिकतम तापमान 44.8 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 32.6 डिग्री सेल्सियस रहा। इसके अलावा आया नगर में 43.5, रिज और लोदी रोड में 43 डिग्री सेल्सियस तापमान रहा। नमी का स्तर 60 से 30 फीसद रहा।

हालांकि, रविवार की सुबह कुछ जगहों पर हल्की बूंदाबांदी देखने को मिली। घने काले बादल भी छाए हुए थे। लेकिन, बादल महज हल्की सी बूंदाबांदी कर लौट गए। इसके बाद तेज उमस और गर्म हवाओं के थपेड़ों ने लोगों की मुश्किलों को बढ़ा दिया। दोपहर के समय कुछ देर के लिए धूल भरी तेज आंधी भी आई।

मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली एनसीआर में मानसून आने की संभावना फिलहाल सप्ताह भर तो नहीं है। हालांकि, इस दौरान आंधी चलने के साथ ही छिटपुट बारिश हो सकती है। सोमवार को भी तापमान 42 और न्यूनतम तापमान 32 डिग्री रहने के आसार हैं। इसके बाद तापमान में दो से तीन डिग्री की गिरावट आ सकती है।

उधर स्काईमेट वेदर के अनुसार उत्तरी पाकिस्तान और इससे सटे जम्मू-कश्मीर से होते हुए एक पश्चिमी विक्षोभ गुजर रहा है। इस मौसमी सिस्टम की वजह से राजधानी समेत नोएडा, गुरुग्राम, फरीदाबाद और गाजियाबाद में अगले चार से पांच दिन दोपहर और शाम के समय तेज हवा के साथ धूलभरी आंधी आ सकती है।

कहीं-कहीं गरज के साथ छिटपुट बारिश भी हो सकती हैं। बंगाल की खाड़ी के उत्तर पश्चिमी भागों पर बना हुआ निम्न दबाव क्षेत्र पश्चिमी एवं उत्तर-पश्चिमी दिशा में बढ़ रहा है। इसके कारण अगले हफ्ते के आखिर तक ही दिल्ली में दक्षिण पश्चिमी मानसून के पहुंचने की उम्मीद है।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com