डॉक्टरों को ममता का अल्टीमेटम- काम पर लौटें, नहीं तो कार्रवाई करेंगे

प.बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हड़ताल कर रहे डॉक्टरों को गुरुवार दोपहर तक काम पर लौटने का अल्टीमेटम दिया है। डॉक्टर अपने साथियों के साथ मारपीट का विरोध कर रहे थे। ममता ने कहा कि अगर डॉक्टर इस आदेश का पालन नहीं करते तो उनपर कार्रवाई की जाएगी।

एनआरएस मेडिकल कॉलेज में दो साथी डॉक्टरों के साथ मारपीट के बाद मंगलवार से डॉक्टर हड़ताल पर हैं और न्याय दिलाने की मांग कर रहे हैं। विरोध के चलते राज्य में दो दिन से राज्य सरकार द्वारा संचालित अस्पतालों के इमरजेंसी वार्ड, पैथोलॉजी यूनिट और अन्य सुविधाएं बंद हैं। इसके अलावा कुछ प्राइवेट अस्पताल भी बंद हैं।

मरीजों के अलावा किसी को अस्पताल में रुकने न दें- ममता

डॉक्टरों की हड़ताल के चलते राज्य में प्रभावित हो रहीं मेडिकल सेवाओं के मद्देनजर ममता कोलकाता के एसएसकेएम अस्पताल पहुंची। उन्होंने पुलिस को अस्पताल खाली कराने का आदेश दिया, साथ ही कहा कि अस्पताल में मरीजों के अलावा किसी को परिसर में न रुकने दिया जाए।

हड़ताल को सांप्रदायिक रंग देना चाहती है भाजपा- ममता

मुख्यमंत्री ने दावा किया कि डॉक्टरों का यह आंदोलन उनके राजनीतिक विरोधियों की साजिश है। उन्होंने कहा, “मैं इसकी निंदा करती हूं। यह सीपीआई और भाजपा की साजिश है।उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज और अस्पतालों में परेशानियां बढ़ाने के लिए बाहर के लोग दाखिल हुए हैं। भाजपा इस हड़ताल को सांप्रदायिक रंग देना चाहती है।”

ममता ने कहा, ”भाजपा सीपीआई की मदद से हिंदू-मुस्लिम राजनीति कर रही है। मैं दोनों पार्टियों का प्यार देखकर हैरान हूं। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह अपने पार्टी के कार्यकर्ताओं को तनाव पैदा करने और फेसबुक पर प्रोपेगैंडा चलाने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं।” उधर, भाजपा नेता मुकुल रॉय ने आरोप लगाया है कि एक विशेष समुदाय के लोगों ने डॉक्टरों पर हमला किया। हमलावर तृणमूल से जुड़े हुए हैं।

HAMARA METRO

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com