Indian Army: भारतीय सेना ने कारगिल विजय के 25 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में दिल्ली से द्रास तक ‘हार्ट टू ब्रेवहार्ट्स’ कार रैली को रवाना किया

Indian Army flagged off 'Heart to Bravehearts' Car Rally from Delhi to Drass to commemorate 25 years of Kargil Vijay

दिल्ली क्षेत्र के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल भवनीश कुमार ने 11 जुलाई, 2024 को करिअप्पा परेड ग्राउंड, दिल्ली छावनी से कारगिल युद्ध में भारत की विजय की 25वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में ‘हार्ट टू ब्रेवहार्ट्स’ नामक कार रैली को रवाना किया। ‘हार्ट टू ब्रेवहार्ट्स’ कार रैली कारगिल युद्ध वीरों के शौर्य, दृढ़ता और बलिदान के प्रति श्रद्धांजलि है। यह कारगिल युद्ध के रजत जयंती समारोह के उपलक्ष्य में मनाई जा रही है। कार रैली को 30 जून 2024 को तनोट सीमा चौकी, तेजू और कोच्चि बंदरगाह से एक साथ झंडी दिखाकर रवाना किया गया। इस दौरान नागरिकों की ओर से देश भर के सैनिकों, विशेषकर सीमाओं पर तैनात सैनिकों को संदेश दिए गए।

विभिन्न टीम 9 जुलाई को दिल्ली में एकत्रित हुईं और आज उन्हें झंडी दिखाकर द्रास स्थित कारगिल युद्ध स्मारक के लिए रवाना किया गया। रैली 15 जुलाई 2024 को कारगिल युद्ध स्मारक पर समाप्त होने से पहले 10000 किलोमीटर से अधिक की दूरी तय करेगी। यह रैली मार्ग में पड़ने वाले विभिन्न सैन्य स्टेशनों से होकर गुज़रती है और भारतीय सेना के बहादुर सैनिकों का सम्मान करती है। सभी प्रमुख स्थानों पर ध्वजारोहण और ध्वजारोहण समारोह, सेवारत कर्मियों, दिग्गजों, वीर नारियों और वीर सैनिकों के परिवारजनों और प्रतिष्ठित गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में आयोजित किए जा रहे हैं। कारगिल युद्ध के अदम्य प्रदर्शन करने वाले जाबाज़ों और वीर नारियों को सम्मानित किया जा रहा है।

भारतीय सेना के सहयोग से महिंद्रा एंड महिंद्रा द्वारा आयोजित इस रैली में नागरिक अपने संदेश पत्र, कविता, रेखाचित्र और अन्य रचनात्मक अभिव्यक्तियों के रूप में भेज रहे हैं। जैसे-जैसे यह रैली देश के कोने-कोने से गुजर रही है, कारगिल युद्ध के दौरान साहस, बलिदान और देशभक्ति की कहानियां सुनाई जा रही हैं। संपूर्ण भारत में महिंद्रा एंड महिंद्रा के शोरूम से एकत्र किए गए पत्रों, संदेशों और पोस्टर/फोटोग्राफ के रूप में भी रैली द्वारा संदेश दिए जा रहे हैं। यह अभियान सभी भारतीयों के लिए भारतीय सशस्त्र बलों के प्रति अपनी प्रशंसा और सराहना व्यक्त करने का आह्वान और सुअवसर है।

Related Articles

Back to top button