ओह! ये इच्छा दबानेे के लिए पेट के बल सोती हैं लड़कियां

ओह! ये इच्छा दबानेे के लिए पेट के बल सोती हैं लड़कियां   साइंस के मुताबिक पेट के बल सोना

Read more

उपवास, पकवानऔर डायबिटीज का नियंत्रण

उपवास, पकवानऔर डायबिटीज का नियंत्रण डॉ. एके झींगन,कंसल्टैंटडायबिटोलॉजिस्ट डायबिटीज एजुकेशन रिसर्च फाउंडेशन, नई दिल्ली चाहे नवरात्रि हों, दशहरा या दीवाली या फिर रमजान

Read more

समस्याओं को दूर करता है साबुदाना

समस्याओं को दूर करता है साबुदाना     साबुदाने का इस्तेमाल ज्यादातर लोग व्रत के दिनों में करते हैं। साबुदाने

Read more

अगर जीवन भर कैंसर से बचना हो तो खाएं सिर्फ ये एक फल

अगर जीवन भर कैंसर से बचना हो तो खाएं सिर्फ ये एक फल     फल, सब्जियां, साबुत अनाज और

Read more

‘ सोरायसिस ‘ एक त्वचा का रोग है – डाॅ. मीना तांदले – आयूर्वेदाचार्य

‘ सोरायसिस ‘ एक त्वचा का रोग है | डाॅ. मीना तांदले – आयूर्वेदाचार्य सोरायसिस  रोग में शरीर की त्वचा पर अत्यंत खुजली एवं दर्द  से युक्त  लाल चकत्ते उभर कर आ जाते हैं जो  समय के साथसुखकर त्वचा पर एक सतह का रूप ले लेते है |  खुजली करने पर यह सुखी सतह रुसी  के रूप में झड़ने लगती  है और  त्वचाकी सतह पर  दरार पड़ खून बहने लग जाता है | सोरायसिस छूने से नहीं फैलता परन्तु यह  रोग अपनी कुरूपता के  कारण रोगी के शरीर के साथ -साथ उनके मन को भीइतनी बुरी तरह से त्रस्त कर देता है कि सोरायसिस के  रोगी अक्सर अपनी इस बीमारी की  वजह से हीन भावना से ग्रसित होजातें  है  | भारत में लगभग  एक करोड़ से अधिक लोग इस रोग से प्रभावित हैं | इस रोग का मूल कारण अभी तक ज्ञात नहीं है किन्तु यह रोग वंशानुगत प्रवृत होता हुआ एवं  आमतौर पर कुछ कारण जैसेमानसिक तनाव, खमीर से उत्पन्न बने पदार्थों का सेवन  , शराब पीना आदि   द्वारा अधिक विकृत होता हुआ व शरीर  मेंअधिक तेजी से फैलता हुआ देखा गया है | अक्सर सोरायसिस का निदान / पहचान चिकित्सकगण इसके लक्षणों के आधार पर ही कर लेते है किन्तु इसका निश्चित निदानस्किन बॉयोप्सी से किया जाता है | इसके लिए चिकित्सक  सोरायसिस रोग से प्रभावित हुई  त्वचा का छोटा सा नमूना लैब मेंजांच कराने के लिए भेजते है | यह रोग भलीभांति चिकित्सा किये जाने पर पूर्ण रूप से ठीक हो सकता है | इसकी चिकित्सा में शरीर की शुद्धि -पंचकर्म  एक महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करता है जिसके कारण  पुराने मर्ज को भी पूर्णतः ठीक करने में बहुतमदद मिलती है।  प्रिवेंटिव मेजर्स : १. आयुर्वेद में अट्ठारह प्रकार के विरुद्ध आहार का  वर्णन है जिनके प्रयोग से शारीरिक तत्त्व जल्दी विकृत हो जाते है | इनअट्ठारह विरुद्ध आहार में से  निम्नलिखित  विरुद्ध आहार का विशेष ध्यान रखें : * ठण्डे व गरम पदार्थों का एकसाथ सेवन न करें  जैसे गरम भोजन के साथ कोल्डड्रिंक्स, ठंडा पानी आदि न पियें  | * दूध में  फल , नमक मिश्रित पदार्थ व  खट्टे पदार्थ मिलाकर न  पियें | २. वंशानुगत  देखे जाने के कारण  यदि  परिवार में माता पिता आदि  किसी को सोरायसिस है तो स्वयं के शरीर की शुद्धिपंचकर्म द्वारा  साल में एक बार अवश्य कराएं | क्यूरेटिव मेजर्स : 1. औषध :

Read more

न खाएं केला, सेहत को पहुंचाता है नुकसान

दूध के साथ न खाएं केला, सेहत को पहुंचाता है नुकसान केला और दूध पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं।

Read more

छिलके से दूर करें स्किन से जुड़ी कई समस्याएं

छिलके से दूर करें स्किन से जुड़ी कई समस्याएं केला एक ऐसा फल है जो बच्चों से लेकर बड़ों तक

Read more

साइकोसोमैटिक सिंड्रोम के बारे में मिलकर जागरूकता फैलाएंगे दिल्ली-एनसीआर के प्रमुख डॉक्टर्स

साइकोसोमैटिक सिंड्रोम के बारे में मिलकर जागरूकता फैलाएंगे दिल्ली-एनसीआर के प्रमुख डॉक्टर्स     नई दिल्ली : आम लोगों और डॉक्टरों

Read more

रेरणा का स्रोत बनेगा फाइनल तक का हमारा सफर : राजेश्वरी गायकवाड़

नई दिल्ली: भारतीय महिला टीम की स्पिन गेंदबाज राजेश्वरी गायकवाड़ का मानना है कि आईसीसी महिला विश्व कप के फाइनल

Read more

बीजेपी राजनैतिक भ्रष्टाचार में लिप्त है: अखिलेश यादव

नई दिल्ली: बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के लखनऊ दौरे से पहले सपा के तीन एमएलसी बुक्कल नवाब, यशवंत

Read more
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com