PUBG पर बैन की मांग लेकर जंतर मंतर पर उतरे पेरेंट्स

बच्चों में फेवरिट बन रहे ऑनलाइन गेम PUB G पर बैन लगाने की मांग को लेकर मंगलवार को दिल्ली के अभिभावक राजधानी के जंतर-मंतर पर जमा हुए. नेशनल अकाली दल के बैनर तले हुए इस प्रोटेस्ट में सभी ने एक सुर से पबजी पर बैन की मांग की. पेरेंट्स इसके पीछे ये वजह बता रहे हैं.

आज PUB G  और फोरनाइट जैसे ऑनलाइन खेल बच्चों ही नहीं बड़ों के लिए भी मुसीबत बन चुके हैं. ये खेल कई बच्चों की जिंदगी भी लील चुके हैं. मंगलवार को देश में सबसे गुस्सैल व्यक्ति का खिताब पा चुके नेशनल अकाली दल के अध्यक्ष परमजीत सिंह पम्मा के नेतृत्व में पेरेंट्स ने जंतर मंतर पर प्रोटेस्ट किया. प्रोटेस्ट के बाद दूरसंचार मंत्री रवि शंकर प्रसाद को ज्ञापन भेजा गया. पार्टी कार्यकर्ताओं ने मोबाइल गेम के पुतले भी जलाए

इस मौके पर परमजीत सिंह पम्मा ने कहा कि यह बड़े दुख की बात है ऐसे गेम हमारे बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे हैं. ये बच्चों को मौत की राह तक भी ले जा रहे है. सरकार की जिम्मेदारी है कि ऐसे खेलों पर तुरंत प्रतिबंध लगाकर इसे दिखाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें.

पेरेंट्स ने कहा कि हाल ही में मध्यप्रदेश में हुई घटना सामने आने से गार्जियन डरे हुए हैं. वहां पबजी गेम खेलने और इसमें हारने के बाद दिल का दौरा पडऩे से 16 साल के एक टीनेजर बच्चे की मौत हो गई. पम्मा ने कहा यदि समय रहते इस प्रकार के गेम्स पर रोक नहीं लगाया गया तो यह युवकों के लिए और भी खतरनाक हो सकती है. प्रदर्शनकारियों ने बाद में दूरसंचार मंत्री रवि शंकर प्रसाद को ज्ञापन देकर बच्चों की जिंदगी से खिलवाड़ करने वाली गेम्स को बैन करने की मांग की। ज्ञापन में मांग की है कि ऐसी गेम्स पर तुरंत प्रतिबंध लगाया जाए. यही नहीं इन खेलों को लाने वालों पर कड़ी कार्रवाई हो. इसके अलावा भविष्य में भी देश में कोई ऐसे गेम न लाए जाएं, इसके लिए उचित कानून बनाया जाए। प्रदर्शन में पेरेंट्स में दलजीत सिंह चग्गर, बिंदिया मल्होत्रा ,अशोक चौक, उषा निश्चल गुरपाल सिंह, मनजीत सिंह, जसवीर सिंह सरना, रश्मति कौर बिंद्रा, शंकर गोगिया और जितिन सोहर सहित बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी मौजूद थे.

HAMARA METRO