गांव के बच्‍चों का सुधरेगा शिक्षा का स्‍तर, दिल्ली के प्रसिद्ध डीटीयू कॉलेज के बच्‍चे जाएंगे पढ़ाने

शिक्षा के विकास और इसमें सुधार के लिए दिल्ली प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (डीटीयू) ने क्षेत्र के पांच गांवों को गोद लिया है। इन गांवों के प्राथमिक विद्यालयों में डीटीयू के छात्र जाएंगे और बच्चों की गणित, अंग्रेजी जैसे विषयों की समस्या को दूर करेंगे। बाहरी दिल्ली के शाहबाद दौलतपुर स्थित डीटीयू ने इन स्कूलों का चयन केंद्र सरकार की उन्नत भारत अभियान योजना के तहत किया है। इस योजना पर डीटीयू पिछले एक साल से कार्य कर रहा है।

गांवों में भेजी जाएगी एलईडी लगी बस 
डीटीयू में सिविल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट के प्रोफेसर और उन्नत भारत योजना के मुख्य जांचकर्ता डॉ. अमित कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि 2019-21 के लिए टर्म-प्लान के तहत नई रूपरेखा तैयार की जाएगी। इसमें ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक से अधिक स्कूलों में कार्यशाला चलाए जाने की योजना है। साथ ही गांवों में स्कूल ऑन व्हीकल्स की व्यवस्था होगी।

इसमें एक बस गांव पहुंचेगी, जिसमें एलईडी के माध्यम से डिजिटल शिक्षा को बढ़ावा देते हुए प्राथमिक शिक्षा का विस्तार किया जाएगा। बच्चों के साथ-साथ प्रौढ़ शिक्षा पर भी कार्य किए जाएंगे। इसके अलावा ग्रामीण और क्षेत्र के लोग जो कुछ भी सीखना चाहें उन्हें निशुल्क सिखाया जाएगा। शिक्षा के साथ-साथ बिजली, प्लम्बर और अन्य प्रकार के व्यावसायिक प्रशिक्षण को भी इसमें शामिल किया जाएगा।

12 स्कूलों में चल रही है कार्यशाला 
डीटीयू के 5-5 विद्यार्थियों के समूह की ओर से करीब 60 बच्चों के लिए कार्यशाला चलाई जा रही है, जिसमें उन्हें अंग्रेजी, विज्ञान और गणित विषय पढ़ाया जा रहा है। डीटीयू के प्राध्यापकों ने स्कूलों के प्रधानाचार्य के साथ बैठक भी की है। इसमें यह जानने का प्रयास किया गया कि बच्चों को कौन से विषयों में दिक्कत आ रही है।

ऐसे में यह पाया गया कि उपरोक्त विषयों में बच्चों की रुचि कम है, क्योंकि इन्हें पढ़ने का अवसर नहीं मिला। इसलिए जहांगीरपुरी के पांच, सिरसपुर और प्रहलादपुर के दो स्कूलों के साथ-साथ बरवाला, कादीपुर और रोहिणी सेक्टर 15 के एक-एक स्कूल में कार्यशालाएं शुरू की गई हैं। भविष्य में स्कूलों की संख्या को 25 से अधिक बढ़ाने का लक्ष्य है।

बच्चों को कराया जाएगा विवि का भ्रमण 
डीटीयू प्रोफेसर डॉ. अमित कुमार ने बताया कि उन्नत भारत अभियान के तहत चलाए जा रहे कार्यक्रमों में विद्यार्थियों के लिए ओपन हाउस की व्यवस्था है। इसके अंतर्गत छात्रों को एक दिन के लिए डीटीयू बुलाया जाएगा। इस दौरान उन्हें पुस्तकालय, प्रयोगशाला, खेल के मैदान व कॉलेज में मौजूद अन्य जरूरी चीजों की जानकारी दी जाएगी। इस दौरान बच्चों के रहने-खाने की व्यवस्था भी होगी।

इन गांवों को लिया गोद डीटीयू ने बरवाला, शाहबाद दौलतपुर, सिरसपुर, भलस्वा और प्रहलादपुर बांगर गांव को गोद लिया है। केंद्र सरकार की योजना को सफल बनाने के उद्देश्य से इसकी शुरुआत की गई है। शिक्षा में बेहतर सुधार और रिस्पांस मिलने के बाद गांव की अन्य समस्याओं और पहलुओं पर कार्य करने की योजना है। डॉ. अमित कुमार श्रीवास्तव, प्रोफेसर, सिविल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट, डीटीयू व उन्नत भारत योजना के मुख्य जांचकर्ता