UP-दिल्ली के लाखों लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी, एक साथ मिलेगा मेट्रो-एयरपोर्ट का तोहफा

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Noida Inter National Airport) से 2023 तक हवाई जहाज उड़ान भरना शुरू कर देंगे। इसके साथ ही ग्रेटर नोएडा के नॉलेज पार्क दो से जेवर तक मेट्रो भी दौड़ने लगेगी। बृहस्पतिवार को यमुना प्राधिकरण बोर्ड ने इस परियोजना को मंजूरी देते हुए विस्तृत प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) को हरी झंडी दे दी। 35.64 किमी लंबे ट्रैक के निर्माण पर 6969 करोड़ रुपये खर्च होंगे। 32.27 किमी ट्रैक एलिवेटेड व 3.37 किमी भूमिगत होगा। इससे दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद व ग्रेटर नोएडा के लोगों को एयरपोर्ट तक पहुंचने में सुविधा होगी। वे आसानी से 30 से 40 मिनट में ग्रेटर नोएडा से एयरपोर्ट तक पहुंच सकेंगे।

गाजियाबाद, बागपत, हापुड़, मुरादनगर व मेरठ के लोग एयरपोर्ट पहुंचने के लिए पहले पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे से होते हुए ग्रेटर नोएडा पहुंचेंगे। यहां से मेट्रो के जरिये सीधे एयरपोर्ट पहुंच जाएंगे। ग्रेटर नोएडा से जेवर तक कुल 32 स्टेशन बनाए जाएंगे। प्राधिकरण बोर्ड ने इसके निर्माण के लिए पहली किस्त के रूप में 500 करोड़ रुपये जारी करने की अनुमति दे दी है।

यमुना प्राधिकरण सीईओ डा. अरुणवीर सिंह ने बताया कि जेवर तक यातायात सुगम करने के लिए बोर्ड ने तत्काल मेट्रो परियोजना पर काम शुरू करने के निर्देश दिए हैं। इसकी डीपीआर को मंजूरी दे दी गई। ग्रेटर नोएडा से जेवर तक तीन ट्रैक बनाए जाएंगे। आने-जाने के ट्रैक के बीच में तीसरा ट्रैक भी होगा।

यह सीधे एयरपोर्ट पर पहुंचेगा। यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में कई आवासीय सेक्टर होंगे। एक मेट्रो ट्रैक को सेक्टरों से जोड़ा जाएगा। बाद में मेट्रो ट्रैक को सीधे दिल्ली और नोएडा से भी जोड़ा जाएगा। भविष्य में जब यमुना प्राधिकरण क्षेत्र की आबादी बढ़ जाएगी तो मेट्रो के चक्कर बढ़ा दिए जाएंगे। यमुना प्राधिकरण सेक्टर 19 व 20 के अलावा दो और आवासीय सेक्टर विकसित कर रहा है। इनमें अगले दो वर्षों में आबादी बढ़ने लगेगी।

वहीं, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (National Capital Region) के चारों तरफ बने ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे और यमुना एक्सप्रेस-वे को जोड़ने के लिए ग्रेटर नोएडा में इंटरचेंज बनेगा। यमुना प्राधिकरण बोर्ड ने बृहस्पतिवार को इसे मंजूरी दे दी। इसके निर्माण पर 83.94 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इसके बनने से लोग पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे से ग्रेटर नोएडा में यमुना एक्सप्रेस-वे पर उतर सकेंगे। वहीं आगरा की तरफ से आने वाले पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे पर चढ़ सकेंगे। इससे ग्रेटर नोएडा से फरीदाबाद, पलवल, पानीपत, बागपत जाना आसान हो जाएगा।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com