यूरोपीय देशों की तर्ज पर एनिमल ब्रिज बनाने की योजना, 144 एकड़ में सिटी फॉरेस्ट, बायोडायवर्सिटी पार्क, औषधि पार्क और वेटलैंड बनाने की योजना

  • इस एनिमल ब्रिज मेंं जानवर बिना किसी रुकावट के आवाजाही कर सकेंगे

नोएडा. नोएडा में दिल्ली-एनसीआर का सबसे बड़ा ईको जोन बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। इसे नोएडा सेक्टर-137 मेट्रो स्टेशन के पास विकसित किया जा रहा है। इसके लिए कुल 144 एकड़ में सिटी फॉरेस्ट, बायोडायवर्सिटी पार्क, औषधि पार्क और वेटलैंड बनाया जा रहा है।

इन चारों के बीच में वाइल्ड लाइफ एनिमल की आवाजाही के लिए यूरोपीय देशों की तर्ज पर एनिमल ब्रिज भी बनाने की योजना है। नोएडा प्राधिकरण का दावा है कि यह देश का पहला एनिमल ब्रिज होगा, जिससे वाइल्ड लाइफ एनिमल बिना किसी रुकावट के आवाजाही कर सकेंगे। यह लोगों के लिए बने हाईवे या किसी सड़क मार्ग से पूरी तरह से अलग होगा। इस ईको-जोन में नेचुरल वेटलैंड को भी बेहतर किया जा रहा है, जिससे उसमें प्रवासी पक्षियों का आवागमन हो सके। इस तरह एनसीआर का यह सबसे खास ईको-टूरिस्ट स्पॉट बन सकेगा। इसके लिए नोएडा प्राधिकरण ने सोमवार को एक मीटिंग कर तैयारियां भी शुरू कर दीं।

12 एकड़ के नेचुरल वेटलैंड की सफाई का काम शुरू : नोएडा प्राधिकरण के जीएम राजीव त्यागी ने बताया कि 144 एकड़ में इस ईको जोन को तैयार किया जा रहा है। इसमें 12 एकड़ में नेचुरल वेटलैंड है, जिसमें सफाई अभियान सोमवार से शुरू कर दिया गया। इस वेटलैंड के साथ 25 एकड़ में औषधि पार्क भी जुड़ा रहेगा। वहीं, इसके दूसरी 75 एकड़ में बायो डायवर्सिटी पार्क व 32 एकड़ में ग्रीन बेल्ट होगी। इन चारों एरिया को एनिमल ब्रिज के जरिए जोड़ा जाएगा।

नेशनल पार्क की तरह करेंगे विकसित: इस पूरे ईको जोन को किसी नेशनल पार्क की तर्ज पर ही विकसित किया जा रहा है। हालांकि, इसमें खतरनाक जंगली जानवरों को नहीं रखा जाएगा। इसमें नीलगाय, मोर के अलावा अन्य को रखा जाएगा। वहीं, विभिन्न प्रजातियों की तितलियों, मछलियों के अलावा पक्षियों के लिए प्राकृतिक आवास विकसित करने की भी योजना है। जिससे ब्लैक इबिस, ब्लैक हेडड इबिस, ब्लैक विंग्ड स्टिल जैसी बर्ड्स यहां आ सकें।

एनिमल ब्रिज के पास वॉटर बॉडी : ग्रीन बेल्ट और नेचुरल वेटलैंड को आपस में जोड़ने के लिए बनाए जाने वाले एनिमल ब्रिज के पास एक वॉटर बॉडी भी बनाने की योजना है। इस तरह जंगली पशु जहां ब्रिज पर आएंगे वहीं वॉटर बॉडी में जलीय जीव और पक्षियों के अलावा पानी पीने के लिए जानवर भी आएंगे। इससे थोड़ी दूरी पर सर्विस रोड बनाई जाएगी जिसके जरिए आम लोग पैदल आवाजाही करते हुए इस प्राकृतिक खूबसूरती को देख सकेंगे।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com