पटनायक ने 5वीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, पहली बार 2000 में ओडिशा के बने थे मुख्यमंत्री

  • नवीन पटनायक पहली बार 2000 में ओडिशा के मुख्यमंत्री बने थे
  • पटनायक के नए मंत्रिमंडल में 20 मंत्री शामिल, शपथ समारोह में करीब 7 हजार मेहमान पहुंचे
  • इस बार के विधानसभा चुनाव में बीजद को 147 में 112 सीटें मिलीं

भुवनेश्वर. बीजू जनता दल (बीजद) के प्रमुख नवीन पटनायक (72) ने बुधवार को पांचवी बार ओडिशा के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। राज्यपाल गणेशी लाल ने उनके साथ रणेंद्र प्रताप स्वैन और अरुण कुमार साहू को भी मंत्री पद की शपथ दिलाई। 19 साल बाद शपथ समारोह राजभवन से बाहर इडको एग्जीबिशन ग्राउंड पर कराया गया। इसमें लेखिका और पटनायक की बहन गीता मेहता, उनके बड़े भाई प्रेम पटनायक भी मौजूद थे। ओडिशा सरकार ने करीब 7 हजार मेहमानों को न्यौता भेजा था।

इस बार के विधानसभा चुनाव में बीजद ने 112 सीट, भाजपा ने 23, कांग्रेस ने 9, निर्दलीय और माकपा ने एक-एक सीट हासिल की थी। एक दिन पहले ही पटनायक ने पूरी में जगन्नाथ मंदिर के दर्शन किए। पटनायक के नए मंत्रिमंडल में 21 मंत्री शामिल हैं। ओडिशा में 2000 से नवीन पटनायक की सरकार है। यह पहली बार है जब पटनायक ने खुले मैदान में शपथ ली है। इससे पहले 2000, 2004, 2009 और 2014 में उन्होंने राजभवन में शपथ ली थी।

पीएम मोदी ने पटनायक को बधाई दी

सूत्र के मुताबिक, पटनायक ने शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी न्यौता भेजा था, लेकिन वे उपस्थित नहीं हो पाएं। मोदी ने पटनायक को मुख्यमंत्री बनने पर बधाई दी है। उन्होंने कहा कि लोगों की आकांक्षाओं पर खरा उतरने के लिए उन्हें और उनकी पूरी टीम को शुभकामनाएं। ओडिशा के विकास के लिए केंद्र हमेशा पूर्ण सहयोग करेगा।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com