अभिषेक श्रीवास्तव के बढ़ते कदम, जहां चाह वहां राह 

अभिषेक श्रीवास्तव के बढ़ते कदम, जहां चाह वहां राह

कहते हैं कि सपना देखना जितना आसान है, उतना आसान नहीं होता हकीकत में बदलना। किन्तु कड़ी मेहनत, निष्ठा लगन के धनी के लिए कुछ भी कर गुजरना ज्यादा कठिन नहीं होता है। जी हाँ, यह कर दिखाया है महज 21वर्ष की आयु में एक्टर व फिल्म एडिटर अभिषेक श्रीवास्तव ने। उत्तर प्रदेश गोरखपुर के मूल निवासी अभिषेक जहां पर सपने साकार होते ही हैं, मुंबई, मायानगरी में आज एक अलग कामयाबी भरा पहचान बनाने में कामयाब हो चुके हैं। प्रारंभिक शिक्षा दीक्षा गोरखपुर से पूर्ण करने के बाद महज 16 वर्ष की आयु में पिताजी के साथ उनका मुंबई आना हुआ। उनके पिताजी मुंबई में ठीकेदार और फिल्म निर्माता थे। अभिषेक ने अभी ठीक से फिल्म इंडस्ट्री में ठीक से कदम नहीं  रखा था कि उनके पिताजी का सन 2013 में स्वर्गवास हो गया। अचानक सिर से पिताजी का साया उठना, सब कुछ खो सा गया। मगर किस्मत की अग्नि परीक्षा को पास कर दृढ़ संकल्प और कड़ी संघर्ष से दम पर वे आज कामयाबी का परचम लहरा रहे हैं। मुंबई के पॉस इलाके में उनका आलीशान ऑफिस और मिलनसार व्यक्तित्व उन्हें दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की  दे रहा है। अभिषेक श्रीवास्तव कहते हैं कि किसी भी चीज को धैर्य से सीखने की जरुरत होती है क्योंकि फिल्म एडिटिंग बहुत बड़ी जिम्मेदारी का कार्य होता है। प्रारंभिक स्तर पर संघर्ष तो जरूर है। लेकिन लगन और मेहनत के साथ लगे रहने से सफलता जरूर मिलती है। मेरे स्टूडियो में फिल्म का पोस्ट प्रोडक्शन का सारा कार्य उचित दर पर उच्च तकनीकी के साथ किया जाता है।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com