नशे के खिलाफ अब तक ना देखा ना सुना,ऐसा जनआंदोलन

नशे के खिलाफ अब तक ना देखा ना सुना,ऐसा जनआंदोलन

✍? नरसिंहपुर में मानो आज 11.10.2017 को जिलेवासियों(आम नागरिकों) द्वारा इतिहास रच दिया.
*नरसिंहपुर जिला नशामुक्ति  मंच के आव्हान पर नशे के खिलाफ सैकडो की तादाद में आम नागरिक सडकों पर शासन प्रशासन के खिलाफ खड़े हो गये*
आज पुलिसअधीक्षक नरसिंहपुर के नाम पत्र दिया गया, जिसमें कहा गया कि नरसिंहपुर में चल रहे खुलेआम नशे के कारोबार (स्मेक, गांजा, पाउडर) पर जल्द कार्रवाई की जाये, अन्यथा अब शिवराज सरकार को पुन: वोट देने सोचना पड़ेगा?
वैसे नरसिंहपुर की जनता को पुलिस अधीक्षिका डॉ. मोनिका शुक्ला द्वारा नशे के कारोबारियों पर जल्द कार्रवाई का आश्वासन दिया है.
वही जिलें की इतनी महत्वपूर्ण रैली पर किसी भी भाजपा व काग्रेंस नेता के दर्शन तक नहीं हुये, जोकि नरसिंहपुर की राजनीति में एक बडा परिवर्तन ला सकता है, यदि जनहित व लोकहित की बात हो तो जनता अब बिना बडे नेता के, सडको पर उतरकर अपना आक्रोश व्यक्त कर सकती है, जिलें में इस जनांदोलन की सुर्खियों ने जहां एक और नेताओं की सासें अटका दी, तो वही नशे के कारोबारियों में भी हडकम्प की स्थिति बनी हुई है.
सामाजिक कार्यकर्ता अभय बानगात्री द्वारा स्मेक, गांजा, अवैध शराब के स्टिंग बनाकर नरसिंहपुर सोशल मीडिया व पुलिस अधीक्षिका महोदया को वाट्सअप के माध्यम से प्रेषित किये पर अब तक पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई, जिसे लेकर पुलिस की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे में है.
*कौरव महासभा, गाडरवारा द्वारा भी एक ऐतिहासिक पहल की गई, जिन्होंने हजारों लोगो से नशा ना करने संकल्प पत्र भरवायें*
नरसिंहपुर नशामुक्ति मंच, के राकेश पटेल(रीछा वाले), अमित (गोलू) राय, दीपचंद्र जाटव, राजकुमार कौरव, एड. धनराज साहू, सुशील विश्वकर्मा(समाजसेवी),मनोज शुक्ला, रंजीत कौरव, सुशील विश्वकर्मा, कृष्णकांत कौरव, आदित्य साहू, प्रियंका साहू, शंकरलाल चौधरी, बट्टू सलूजा, राजेश चौरसिया, मिथिलेश सिलावट, दीपक दुबे, दीपक मेहरा, सचिन सिलावट व सामाजिक कार्यकर्ता अभय बानगात्री की मुख्य भूमिका रही.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *