स्टापेज पर धीरे चल रही बस के पीछे आकर पलट गई ट्रैक्टर ट्रॉली, बड़ा हादसा टला

🔴 शहर के सबसे व्यस्त मार्ग कारंजा चौराहे पर हुआ हादसा, महिला को आई चपेट में

✍️ दैनिक हमारा मैट्रो, बड़वानी

शहर के व्यस्ततम कारंजा चौराहा स्टापेज पर सवारी बैठाकर आगे बढ़ रही बस के पीछे तेज रफ्तार से आ रही ट्रैक्टर ट्रॉली ब्रेक लगाते ही पलट गई। घटना के बाद मौके पर अफरा तफरी मच गई। गनीमत रही कि कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ। घटना के समय सड़क किनारे ही कारंजा बस स्टापेज पर यात्री और स्कूली बच्चे बसों के इंतजार में  खड़े थे। वहीं अन्य वाहनों का आवागमन हो रहा था। हालांकि ट्रॉली पलटने से आगे चल रहा एक बाइक सवार चपेट में आ गया। वहीं एक महिला भी घायल हो गई। यह पूरा हादसा कारंजा चौराहे पर लगे सीसीटीवी में भी कैद हुआ हैं।
सीसीटीवी में स्पष्ट रुप से नजर आया कि ट्रैक्टर तेज गति से आ रहा था और बस के पीछे अचानक असंतुलित होकर पलट गया। जिस जगह सड़क पर ट्रैक्टर ट्रॉली पलटी, उसके आगे महज तीन या चार फीट दूरी पर स्टापेज से यात्रियों से भरी बस आगे बढ़ रही थी। वहीं स्टापेज पर 15-20 स्कूली बच्चे अपने गांवों की ओर जाने वाली बसों का इंतजार कर रहे थे। गनीमत रही कि वहां पेड़ था, नहीं तो बच्चे भी हादसे का शिकार हो जाते। वैसे भी शहर के मुख्य अंजड़ मार्ग पर यातायात का दबाव अधिक रहता हैं। डिवाइडर युक्त सड़क नहीं होने से हादसे आए दिन होते हैं। ट्रैक्टर चालक गोविंद ने बताया कि स्टापेज पर खड़ी बस को देखकर अचानक ब्रेक लगाए, लेकिन ब्रेक चिपकने से ट्रैक्टर के साथ ट्रॉली भी लट गई। ट्रॉली में वो ईंटें खालीकर लौट रहा था।  

🔴 कुछ देर थम गया यातायात

घटना के बाद विजय स्तंभ स्थित कारंजा चौराहे पर यातायात थम गया। हालांकि एक ओर डिवाइडर से वाहन निकलने रहे। सूचना पर कोतवाली पुलिस पहुंची और अन्य वाहनों को निकालने हुए यातायात सुचारु करवाया। इसके बाद क्रेन बुलवाकर ट्रैक्टर को सीधा कर कोतवाली में ले गई। वहीं घायलों को अस्पताल भिजवाया। पुलिस ने ट्रैक्टर चालक के विरुद्ध मामला दर्ज कर जांच में लिया हैं। थाना प्रभारी शंकरसिंह रघुवंशी ने बताया कि सूचना पर क्रेन से ट्रैक्टर ट्रॉली को सीधा कर थाने में खड़ा करवाया हैं। चालक के विरुद्ध मामला दर्ज कर विवेचना में लिया हैं। चालक फरार हैं।

🔴 रफ्तार पर नहीं काबू

वैसे शहर में तेज रफ्तार से चलने वाले वाहनों पर कोई काबू नहीं हैं। यातायात पुलिस आए दिन कार्रवाई करती हैं, लेकिन वाहन चालकों पर इसका असर नहीं दिखता। विशेषकर ट्रैक्टर ट्रॉलियां शहर में फर्राटे भरकर निकलती है। अलसुबह 4 बजे से 8-9 बजे तक अवैध रेत भरे ट्रैक्टर काफी तेज गति से मार्गों व गली-मोहल्लों से निकलने हैं। जबकि सुबह-सुबह स्कूली बच्चों की आवाजाही होने से बड़े हादसे की आशंका हमेशा बनी रहती हैं। पूर्व में पाटी नाका पर स्कूल जा रहे एक बालक को रेत भरे ट्रैक्टर ने रौंद दिया था।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com