सौंफ बिक्री के बाद किसान की जेब से गायब हुए 9990 रुपए, जाने क्या है मामला

🔴 पेंट की जेब में रखे 9900 रुपए गायब

🔴 कृषि मंडी में सुरक्षा के इंतजाम की खुली पोल

🔴 शेड में लगे सीसीटीवी कैमरे मिले बंद

✍️इम्तियाज खान intu
बड़वानी। मौसम साफ होने पर शहर की कृषि उपज मंडी में जिले सहित धार व खरगोन जिलों से बड़ी संख्या में किसान सौंफ बेचने आने लगे है। इस रविवार सौंफ की बंपर आवक रही।  हालांकि अब मंडी की सुरक्षा में सेंध लगने लगी है। बीते दो सप्ताह से किसानों की जेब कटने के मामले सामने आ रहे है। इस रविवार भी एक किसान के जेब में रखे 9 हजार 900 रुपए गायब हो गए। इससे किसान के पास घर वापस जाने तक रुपए नहीं बचे।

किसान की जेब कटने की सूचना पर कोतवाली पुलिस के प्रधान आरक्षक पहुंचे और जानकारी प्राप्त की। हालांकि इस दौरान जिस जब किसान की जेब कटी, वहां टिनशेड में लगे सीसीटीवी कैमरे बंद होकर शोपिस मिले। जबकि एक अन्य किसान के 10 हजार रुपए गायब होने की बात सामने आई, लेकिन पुलिस के आने के पूर्व वह मंडी से चला गया। वहीं गत सप्ताह भी एक किसान की जेब कटने से उसे हजारों रुपए का फटका लगा था। किसानों के अनुसार मंडी में अधिक भीड़ भाड़ होने से संदिग्ध लोगों की मौजूदगी बढऩे लगी है। साथ ही नाबालिक बच्चे भी रेलमपेल करते दिखाई देने लगे है।

🔴 गेट पर लगे दो कैमरे ही मिले चालु

किसान के रुपए गायब होने की सूचना पर कोतवाली के प्रधान आरक्षक शैलेंद्र परिहार मौके पर पहुंचे और जानकारी प्राप्त की। साथ ही मंडी परिसर में मुआयना किया। इस दौरान मंडी परिसर में छह कैमरे लगे मिले, लेकिन अब कार्यालय में जानकारी ली तो सिर्फ गेट पर लगे दो कैमरे चालु पाए गए। टिनशेड में सौंफ खरीदी-बिक्री के स्थानों पर लगे कैमरे बंद पाए गए। 

🔴 धार जिले के ग्राम कादरवा के किसान राधेश्याम पिता श्रवण कुमार ने बताया कि बस से यहां सौंफ बेचने आए थे। व्यापारी को 86 किलो सौंफ बेचने पर 9 हजार 900 रुपए भुगतान मिला था। मंडी टिनशेड में सौदा कर उपज का रुपए लेकर उन्होंने पेंट के पीछे के जेब में रख लिए थे। इसके बाद उनके अन्य साथी के रुपए लेने दूसरे व्यापारी के पास गए थे। इस दौरान वो बार-बार जेब को हाथ लगाकर रुपए देखते रहे, लेकिन जब टिनशेड से बाहर निकले और जेब में हाथ डाला तो रुपए नहीं मिले। उनके जेब में सिर्फ 10 रुपए का नोट शेष बचा। इसकी सूचना मंडी प्रशासन व पुलिस को भी दी। किसान ने बताया कि गांव से आते समय बस वालों को जाते समय दोनों ओर का किराया देने की बात कही थी, लेकिन उपज के रुपए गायब होने पर गांव लौटकर कैसे जाए, यह चिंता हो गई है।

🔴 मंडी प्रशासन के नागराज सिंह ने बताया कि सौंफ खरीदी-बिक्री के दौरान किसान, व्यापारी, मजदूरों के साथ खेरची में खरीदी करने वाले लोगों की अधिक भीड़ होती है। ऐसे में किसानों से आह्वान करते हैं कि वो अपनी उपज का रुपए संभलकर सुरक्षापूर्वक अपने पास रखे। किसान की सूचना पर मंडी परिसर में अनाउंसमेंट कर अन्य किसानों को सतर्क रहने के लिए कहा गया।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com