छात्र बोले- हेलमेट पहनना भी है देशभक्ति, केजरीवाल ने कुछ इस अंदाज में जताई खुशी

 यूं तो अपनी जन्मभूमि और मातृभूमि के प्रति सम्मान रखना, स्वाभिमान प्रकट करना और उसके प्रति निष्ठा रखना जैसी भावना देशभक्ति है। बावजूद इसके देशभक्ति को लेकर हर नागरिक का अपना विचार होता है। इस बीच देशभक्ति को लेकर दिल्ली के बच्चों/छात्रों से विचार लिए गए तो उन्होंने उसी मासूमियत और सच्चाई से जवाब भी दिए। देशभक्ति क्या होती है? के सवाल के जवाब में किसी बच्चे ने कहा ‘अच्छा इंसान बनना’ तो किसी ने कहा ‘वाहन चलाते समय हेल्मेट पहनना।’

दरअसल, दिल्ली के सरकारी स्कूलों में देशभक्ति पाठ्यक्रम बनाने वाली कमेटी ने कुछ बच्चों से पूछा कि उनके लिए देशभक्ति का मतलब क्या है? उन्होंने ये जवाब दिए हैं।

इन बच्चों के जवाब पढ़ने के बाद दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी (aad aadmi party) सरकार के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने इनके जवाब को ट्वीट भी किया है- ‘बच्चों के तरफ से आए सुझाव पढ़ कर मुझे विश्वास हुआ इस देश का भविष्य सुनहरा है। साहित्य में इस भावना का एक विश्वसनीय स्थान है। सभी को देशभक्ति के अवसर मिलते है लेकिन सच्चा देशभक्त वही होता …।’

यहां पर बता दें कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों में जल्द ही देशभक्ति की पढ़ाई शुरू होने वाली है। इसका एलान कुछ महीने पहले दिल्ली सरकार के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने किया था। यही वजह है कि दिल्ली चुनावों के पहले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सरकारी स्कूलों में देशभक्ति पाठ्यक्रम लागू करवाने की तैयारी में जुट गए हैं। बता दें इस बाबत एक कमेटी का गठन भी किया गया था और  बृहस्पतिवार को उस कमेटी की पहली बैठक मुख्यमंत्री आवास पर बुलाई गई थी। इसमें तय हुआ देश भक्ति पर लोगों की राय लेने के लिए सीएम सभी निजी और सरकारी स्कूल के अभिभावकों को पत्र भी लिखेंगे।

बता दें कि सरकारी स्कूलों में देशभक्ति पाठ्यक्रम बनाने के लिए गठित कमेटी के साथ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बृहस्पतिवार को पहली बार बैठक की थी।

सरकार के मुताबिक कमेटी ने इसके पाठ्यक्रम बनाने का काम शुरू कर दिया है। इसी क्रम में बच्चों से सुझाव मांगे गए थे. सरकार द्वारा जारी किए गए बयान के मुताबिक देशभक्ति के संदर्भ में बच्चों के तरफ से कई सुझाव आए थे, इसमें से कुछ सुझाव इस प्रकार हैं।

ये थे कुछ सुझाव

  • अपने काम के प्रति ईमानदारी का भाव।
  •  किसी चिड़िया की कहानी, पशु पक्षियों की जरूरतों का ध्यान रखना।
  • लोगों में जात-पात का अंतर या भेदभाव न रखना।
  •  ईर्ष्या, अहंकार आदि न करना।
  •  नियमों का पालन करना।
  •  अच्छी आदतें अपनाना।
  • कागज, पानी या बिजली बचाना।
  •  देश को स्वच्छ और स्वस्थ रखें।
  •  अच्छा इंसान बनना व भाईचारा, कर्तव्यों का पालन करना।
  • प्रदूषण न करना और महिलाओं को सम्मान देना
  • हेल्मेट पहनना।

देशभक्ति पाठ्यक्रम का मकसद

  • अगले साल से सभी सरकारी स्कूलों में देशभक्ति का पाठ्यक्रम लागू हो जाएगा।
  • शिक्षा पूरी करने के बाद हर बच्चा अच्छा इंसान बने।
  • अपने परिवार का भरण पोषण करने के काबिल और सच्चा देशभक्त बने।
  • इस पाठ्यक्रम के तहत बच्चों को अपने देश पर गर्व करना, देश की समस्याओं के समाधान में जिम्मेदारी लेना और देश के लिए कुर्बानी देने का जज्बा रखना सिखाया जाएगा।
  • पाठ्यक्रम में बच्चों को संविधान पढ़ाकर देशभक्त नागरिक बनाया जाएगा। उन्हें अपने अधिकारों के साथ यह भी बताया जाएगा कि वे अपने कर्तव्यों का निर्वहन पूरी निष्ठा से किस प्रकार करें।
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com