मौसम का सबसे ताजा अपडेट, जानिए- कब से शुरू होगी ठंड

 दिल्ली-NCR  (National Capital Region) के मौसम में हो रहा बदलाव अब आगे भी जारी रहेगा। मतलब यह कि गर्मी-उमस धीरे-धीरे कम होती जाएगी और तापमान में भी बहुत इजाफा नहीं होगा। अक्टूबर के पहले सप्ताह तक तो बीच बीच में मानसून की हल्की बारिश ही होती रहेगी, फिर अचानक मौसम में तेजी से बदलाव आएगा। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (India Meteorological Department) के पूर्वानुमान के मुताबिक, मानसून के विदा होते ही मौसम में तेजी से बदलाव आएगा और 20 अक्टूबर के बाद हवा की दिशा भी बदल जाएगी। इससे दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में हल्की ठंड का एहसास भी होने लगेगा।

20 अक्टूबर के बाद बदलेगी हवा की दिशा

मौसम विभाग का कहना है कि दिल्ली से मानसून की विदाई अक्टूबर के पहले सप्ताह तक होगी। हल्की बारिश से तापमान भी अपेक्षाकृत कम ही रहेगा। मौसम में बदलाव का ही असर है कि सुबह और शाम की गर्मी भी कम हो गई है। प्रादेशिक मौसम विज्ञान विभाग के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि अभी पूर्वी हवाएं चल रही हैं। लेकिन 20 अक्टूबर के बाद हवा की दिशा उत्तर पश्चिमी या पश्चिमी हो जाएगी। इन हवाओं में ठंडक व नमी दोनों ही होती है। इनके प्रभाव से तापमान में धीरे-धीरे लगातार कमी आनी शुरू हो जाएगी।

सप्ताह भर तक बनी रहेगी हल्की बारिश होने की संभावना

इससे पहले शुक्रवार को दिन भर बादलों की आवाजाही लगी रही। हालांकि सूरज भी सुबह ही निकल गया था, लेकिन बादलों और सूरज के बीच लुकाछिपी का खेल चलता रहा। कभी धूप खिलती तो कभी छांव आ जाती। इस वजह से उमस भरी गर्मी से अपेक्षाकृत राहत बनी हुई है। शुक्रवार को दिल्ली का अधिकतम तापमान सामान्य से दो डिग्री कम 32.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री अधिक 25.1 डिग्री सेल्सियस रहा। हवा में नमी का स्तर 67 से 87 फीसद रिकार्ड किया गया।

शनिवार को हल्की बारिश के आसार

मौसम विभाग का अनुमान है कि शनिवार को भी सामान्यतया बादल छाए रहेंगे। हल्की बारिश होने की भी संभावना है। अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान क्रमश: 33 और 25 डिग्री सेल्सियस रहने के आसार हैं। हल्की बारिश की संभावना अगले चार पांच दिन तक लगातार बनी रहेगी। इसी वजह से मौसम थोड़ा राहत भरा रहेगा और तापमान भी 34 या 35 डिग्री से अधिक नहीं जाएगा।

2018 में पड़ी थी जबरदस्त ठंड

वर्ष-2109 में सर्दी ने जाते-जाते जनवरी-फरवरी में अपने अंतिम दौर में भी नित नए रंग दिखा दिखाए थे। फरवरी खत्म होने को थी, लेकिन ठिठुरन बरकरार रही थी। 28 फरवरी, 2019 का दिन आठ साल का सबसे ठंडा दिन दर्ज किया गया था।

मौसम विभाग के मुताबिक, 13 साल पहले वर्ष 2005 के बाद ऐसा कोई साल नहीं आया, जब पांच दिन से अधिक छह डिग्री न्यूनतम तापमान रहा हो, लेकिन 2019 में लगातार 15 दिन से भी अधिक दिनों तक 6 डिग्री से नीचे न्यूनतम तापमान रहा था।

मौसम विभाग की मानें तो साल 2005 में ऐसे दिन केवल 4, साल 2007 में 5 दिन, साल 2011 में 5 दिन, साल 2013 में 4 दिन तो साल 2014 में ऐसे दिनों की संख्या 5 दिन ही रही थी।

दिसंबर में 2019 में शिमला से भी ठंडी रही थी दिल्ली

दिसंबर महीने तो न्यूनतम तापमान 3 डिग्री सेल्सियस रहा था। इस दौरान न्यूनतम तापमान ने कई रिकॉर्ड तोड़ दिए था, जहां, शिमला का न्यूनतम तापमान शनिवार को 4.5 डिग्री सेल्सियस रहा, वहीं दिल्ली में यह 2.6 पहुंच गया था।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com