ऑपरेशन ऑलआउट से आतंकी हलचल कश्मीर में पाक रच सकता है की बड़े खून खराबे की साजिश

कश्मीर में पाकिस्तान ने बड़े पैमाने पर खून-खराबे की साजिश रची है। इसके तहत राज्य के भीतर सक्रिय आतंकियों को आम लोगों, सुरक्षाबलों व अतिविशष्ट लोगों पर हमला करने को कहा गया है, जबकि सीमा पर पाक सेना की बार्डर एक्शन टीम (बैट) को भारतीय जवानों को निशाना बनाने के निर्देश दिए गए हैं। भारतीय खुफिया तंत्र को इस साजिश का पता चलते ही केंद्र सरकार तुरंत हरकत में आई और कश्मीर घाटी में बड़ी संख्या में अर्धसैनिकबलों की तैनाती करने के साथ अमरनाथ यात्रा को बीच में रोक दिया गया।

 

कश्मीर में जारी ऑपरेशन ऑलआउट से आतंकी संगठन व पाक की खुफिया एजेंसी हताश

कश्मीर में जारी ऑपरेशन ऑलआउट में अधिकांश कमांडरों के मारे जाने से आतंकी संगठन व पाक की खुफिया एजेंसी हताश है। इसी के चलते ऐसी साजिश रजी गई थी। सूत्रों ने बताया कि जैश सरगना अजहर मसूद का भाई इब्राहिम अजहर गत दिनों जिला पुंछ के पार गुलाम कश्मीर में स्थित जैश-ए-मोहम्मद के कैंप में एक हफ्ते तक रहा। उसने नेजापीर इलाके में दो दिन बताए। यह वह जगह है जहां से बैट दस्ता भारतीय सेना के खिलाफ पुंछ सेक्टर में ऑपरेशन लांच करता है। खुफिया तंत्र के मुताबिक इस इलाके में जैश के तीन से चार आतंकी हैं जिन्होंने इब्राहिम अजहर की मौजूदगी में पाक सेना के एक कमांडो दस्ते के साथ बैट माक ड्रिल में हिस्सा लिया। उत्तरी कश्मीर में केरन में भी पाकिस्तानी सेना ने भारतीय ठिकानों पर बैट कार्रवाई की साजिश रची है।

सूत्रों के मुताबिकि, जैश सरगना अजहर मसूद कुछ माह से बीमार है। उसकी गतिविधियों पर पाकिस्तानी सेना ने पुलवामा हमले के बाद से परोक्ष रूप से रोक लगाई है। अब इब्राहिम अजहर ही जैश की गतिविधियों को देख रहा है। इब्राहिम का बेटा उस्मान गत वर्ष अक्तूबर के दौरान दक्षिण कश्मीर के त्राल, अवंतीपोर इलाके में एक साथी संग मारा था। उससे पूर्व इब्राहिम का भांजा तल्हा रशीद नौ नवंबर 2017 में पुलवामा के कंडी अगलर में मारा गया था। इसलिए इब्राहिम कश्मीर में सनसनीखेज आतंंकी वारदातों को अंजाम देने के लिए हर संभव कोशिश कर रहा है। सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी भी चाहती है कि कश्मीर में युद्ध जैसे हालात बनाए जाएं। इससे उसे कश्मीर को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उछालने और तीसरे पक्ष की मध्यस्थता को यकीनी बनाने में मदद मिलेगी।

देश में सांप्रदायिक हिंसा का माहौल बनाना था मकसद

पाक की खुफिया एजेंसी (आइएसआइ) चाहती है कि एलओसी पर जहां पाकिस्तानी सेना और उसका बैट दस्ता कार्रवाई करे, वहीं कश्मीर के भीतरी हिस्सों में आतंकी किसी बड़े हमले को अंजाम देकर पूरे हिंदोस्तान में अफरातफरी व सांप्रदायिक हिंसा का माहौल बनाए। अमरनाथ यात्रा और इसमें श्रद्धालुओं पर हमले की साजिश इसी कड़ी की साजिश का हिस्सा थी।