मानहानि केस – राहुल मुंबई की निचली अदालत में पेश हुए

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी मानहानि केस की सुनवाई के लिए गुरुवार को शिवड़ी (मझगांव) कोर्ट में पेश हुए। उन्होंने कन्नड़ पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की विचारधारा को जिम्मेदार ठहराया था। इसके बाद मुंबई के संघ कार्यकर्ता ध्रुतीमान जोशी ने फरवरी में राहुल के खिलाफ निचली अदालत में मानहानि का मुकदमा दायर किया था।

कोर्ट ने सोनिया के खिलाफ शिकायत खारिज की थी

  1. जोशी ने यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी और माकपा महासचिव सीताराम येचुरी के खिलाफ भी शिकायत की थी। इसके बाद मझगांव मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट ने राहुल और येचुरी को समन जारी किया था, जबकि सोनिया और माकपा के खिलाफ शिकायत खारिज कर दी थी।
  2. शिकायत में जोशी ने कहा, ”राहुल गांधी ने पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के 24 घंटे के अंदर बयान दिया था कि जो लोग संघ और भाजपा की विचारधारा के खिलाफ आवाज उठाते हैं। उन पर हमले किए जाते हैं और यहां तक की जान से मार दिया जाता है। इसी प्रकार सीताराम येचुरी ने कहा था कि आरएसएस की विचारधारा के लोगों ने गौरी की हत्या की। ये लोग राजनीतिक फायदे के लिए संघ को बदनाम कर रहे हैं।”
  3. गौरी की हत्या राष्ट्रीय स्तर पर उठा था

    5 सितंबर 2017 को बेंगलुरु में बाइक सवार हमलावरों ने गौरी लंकेश पर उनके घर के बाहर हमला किया था। इस दौरान गोलियां लगने से पत्रकार की मौत हो गई थी। यह मुद्दा राष्ट्रीय स्तर पर उछला था और विपक्ष ने मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा करने की कोशिश की थी।

  4. महाराष्ट्र में राहुल के खिलाफ दूसरा मानहानि केस

    संघ के खिलाफ बयानबाजी को लेकर महाराष्ट्र में राहुल गांधी के खिलाफ यह दूसरा मानहानि केस है। 2017 में संघ कार्यकर्ता राजेश कुंते ने चुनावी रैली में दिए बयान को लेकर केस दायर किया था। तब राहुल ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या के लिए आरएसएस को जिम्मेदार ठहराया था।