UP पुलिस राइफल और पिस्टल तानकर लोगों की चेकिंग कर रही है।

बदमाशों पर टूट पड़ों की रणनीति से काम करने वाली यूपी पुलिस को बदमाशों का डर भी खूब सताता है। यही वजह है कि बदायूं में पुलिस राइफल और पिस्टल तानकर लोगों की चेकिंग कर रही है। यूपी पुलिस की इस नायाब चेकिंग का वीडियो सोमवार को सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। सवाल उठ रहे हैं कि आखिर पुलिस को बदमाशों का डर है या उसकी नजर में हर कोई अपराधी है। ऐसे में पुलिसकर्मी की एक चूक से लखनऊ के विवेक तिवारी हत्याकांड जैसी घटना की पुनरावृत्ति भी हो सकती थी।

वायरल वीडियो में बदायूं के वजीरगंज क्षेत्र में बगरैन चौकी प्रभारी उपनिरीक्षक राहुल सिसौदिया व अन्य पुलिसकर्मियों के एक्शन से खाकी की कार्यशैली और नेतृत्व दोनों कठघरे में है। वीडियो में चौकी प्रभारी पिस्टल तो सिपाही बंदूक तानकर राहगीरों के दुपहिया वाहन रुकवाते और अन्य पुलिसकर्मी उनकी तलाशी लेते नजर आ रहे हैं। वीडियो दो दिन पूर्व का बताया जा रहा है।

सूबे में ताबड़तोड़ हुई दुस्साहसिक घटनाओं को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ी नाराजगी जताई थी। कानून-व्यवस्था की समीक्षा में मुख्यमंत्री ने डीजीपी ओपी सिंह समेत सभी वरिष्ठ अधिकारियों को जनता का विश्वास जीतने की नसीहत दी थी। कहा था कि आंकड़े अपराध नियंत्रण का पैमाना नहीं हो सकते, मुझे जनता का विश्वास चाहिए।

अब यूपी पुलिस मुख्यमंत्री की मंशा के उलट जनता पर ही बंदूक ताने नजर आ रही है। इससे पूर्व शुक्रवार को सोशल मीडिया पर वायरल हुए एसपी कासगंज आशोक कुमार के वीडियो ने पुलिस की खूब किरकिरी कराई थी। वायरल वीडियो में मुख्यमंत्री के अधिकारियों द्वारा सुबह नौ बजे कार्यालय पहुंचकर पीड़ितों की सुनवाई करने के आदेश पर ही एसपी टिप्पणी करते नजर आये थे। डीजीपी ने एसपी कासगंज से स्पष्टीकरण भी तलब किया था, पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हो सकी है।

डीजीपी ने कहा, कहीं न हो इसकी पुनरावृत्ति

बदायूं पुलिस के बंदूक तानकर चेकिंग करने के मामले में डीजीपी ओपी सिंह का कहना है कि यह बिल्कुल गलत है। उन्होंने पूरे मामले की जांच के साथ ही सूबे में कहीं भी इस प्रकार चेकिंग न किये जाने का निर्देश दिया है ताकि इसकी पुनरावृत्ति न हो। एसपी बदायूं से भी स्पष्टीकरण तलब होगा।

बदायूं एसएसपी बोले, सशस्त्र बदमाशों के आने की थी सूचना

एसएसपी बदायूं  अशोक कुमार त्रिपाठी ने कहा कि बाइक सवार सशस्त्र बदमाशों के आने की सूचना पर बगरैन रोड पर पुलिस असलहे निकालकर एक-एक व्यक्ति की चेकिंग करने को कहा गया था। किसी राहगीर से कोई बदसलूकी नहीं हुई है। केवल तलाशी ली गई। पूर्व में बदमाशों के निहत्थे होमगार्ड की हत्या करने व दारोगा पर फायरिंग की घटनाएं हो चुकी हैं।