शिवसेना के स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा- अब बाघ और शेर साथ आ चुके हैं

यहां बुधवार को शिवसेना ने अपना  53वां स्थापना दिवस समारोह मनाया। इसमें मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी शामिल हुए। शिवसेना प्रमुख उद्वव ठाकरे ने उन्हें निजी तौर पर आमंत्रित किया था। समारोह में शामिल होकर फडणवीस राज्य के पहले ऐसे मुख्यमंत्री बन गए हैं जो अन्य पार्टी से ताल्लुक रखते हुए शिवसेना के स्थापना दिवस कार्यक्रम में शामिल हुए।

उद्धव को बताया बड़ा भाई

शिवसैनिकों को संबोधित करते हुए फडणवीस ने कहा कि वह कार्यक्रम में अपने घर जैसा महसूस कर रहे हैं। क्योंकि, दोनों ही पार्टियां एक ही उद्देश्य के लिए काम करती हैं। उद्धव को बड़ा भाई बताते हुए फडणवीस ने कहा कि भाजपा और शिवसेना के बीच कुछ मतभेद थे लेकिन अब इसे भुलाया जा चुका है। अब बाघ और शेर साथ आ चुके हैं।

उद्धव ने इशारों-इशारों में मांगा ढाई साल का राज

सायन के षण्मुखानंद सभागार में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री कौन बनेगा यह बात गौण है। जवाब में उद्धव ने कहा कि सब कुछ एक समान चाहिए। उद्धव का इशारा ढाई-ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद को लेकर माना जा रहा है।

सीएम ने कहा- ‘हमने और उद्धव ने तय कर लिया है फ़ॉर्मूला’

फडणवीस ने कहा कि मुख्यमंत्री कौन बनेगा? इस पर मीडिया को चर्चा करने दीजिए। उद्धव और हमने सभी फैसले तय कर लिए हैं। उचित समय पर सही बात की घोषणा की जाती है। हमारा लक्ष्य विधानसभा चुनाव में प्रचंड जीत का होना चाहिए।

मुख्यमंत्री के पद के लिए जारी है खींचतान

राज्य में दोनों पार्टियों के बीच विधानसभा चुनाव से पहले मुख्यमंत्री पद के दावेदारी को लेकर खींचतान है। शिवसेना और भाजपा दोनों ही महाराष्ट्र की कुर्सी पर अपना -अपना उम्मीदवार बैठाना चाहती हैं। शिवसेना का कहना है कि जीतने पर आधे-आधे कार्यकाल के लिए दोनों पार्टी के उम्मीदवार मुख्यमंत्री बनाए जाएं। वहीं, दूसरी ओर शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने ऐसे संकेत दिए हैं कि उनकी पार्टी उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे सीएम पद के दावेदार हो सकते हैं।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com