सचिन ने ऑस्ट्रेलिया की स्पोर्ट्स फर्म स्पार्टन पर केस किया, 14 करोड़ रु. की रॉयल्टी बकाया

सचिन तेंदुलकर ने खेल से जुड़े साजो-सामान बनाने वाली ऑस्ट्रेलियाई कंपनी स्पार्टन पर केस दर्ज कराया है। आरोप है कि कंपनी ने अपने उत्पादों के प्रचार के लिए सचिन के नाम और तस्वीर का इस्तेमाल किया। सचिन ने इसके लिए स्पार्टन से 20 लाख डॉलर (करीब 14 करोड़ रुपए) की रॉयल्टी की मांग की है।

सचिन और स्पार्टन में समझौता हुआ था : रिपोर्ट्स

  1. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने दस्तावेजों के हवाले से दावा किया है कि 2016 में सचिन और स्पार्टन के बीच एक समझौता हुआ था। इसके तहत एक साल तक अपने उत्पादों पर सचिन की तस्वीर और लोगो इस्तेमाल करने पर कंपनी को उन्हें 10 लाख डॉलर (करीब 7 करोड़ रुपए) चुकाने थे। इस डील के तहत स्पार्टन ‘सचिन बाई स्पार्टन’ टैगलाइन भी इस्तेमाल कर सकता था।
  2. सचिन स्पार्टन के उत्पादों के प्रचार के लिए लंदन और मुंबई में हुए प्रमोशनल इवेंट में भी गए थे। हालांकि, सितंबर 2018 तक स्पार्टन ने उन्हें एक भी बार भुगतान नहीं किया। इसके बाद सचिन ने कंपनी से पेमेंट की मांग की। इसके बाद भी जब कोई जवाब नहीं आया तो सचिन ने समझौता खत्म कर दिया और कंपनी को खुद से जुड़े प्रतीक इस्तेमाल न करने के लिए कहा, लेकिन स्पार्टन ने सचिन के नाम-तस्वीरों का इस्तेमाल जारी रखा।
  3. एजेंसी ने इस मामले में स्पार्टन के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (सीओओ) से सवाल पूछे हैं। हालांकि, अभी तक उन्होंने जवाब नहीं दिए हैं। सचिन का मामला देखने वाली लॉ फर्म गिल्बर्ट एंड टोबिन ने भी इस मामले में बोलने से इनकार किया है।
    HAMARA METRO