शहरीकरण के बावजूद आठ साल में दोगुने हुए काले हिरण, जानें अन्‍य वन्‍यजीवों का हाल

शहरीकरण के बावजूद जिले में वन्य जीवों की संख्या में हुए इजाफे ने वन विभाग को चौका दिया है। विभाग को सबसे बड़ी हैरानी काले हिरण की बढ़ी संख्या को लेकर हुई है। पिछले आठ वर्षों के दरम्यान काले हिरन की संख्या बढ़ कर दोगुनी हो गई है।

अचानक से बढ़ गई काले हिरण
वर्ष 2011 की गणना में सिर्फ 122 काले हिरण मिले थे। मई 2019 में विभाग की गणना में इनकी संख्या बढ़ कर 248 हो गई है। इनमें 66 नर, 134 मादा व 48 बच्चे शामिल हैं। विभाग की गणना में काले हिरण के साथ 15 प्रजाति के कुल 4228 वन्यजीव पाए गए हैं, जबकि वर्ष 2011 में इनकी संख्या 3692 थी।

वन्यजीवों ने नोएडा छोड़ ग्रेटर नोएडा को बनाया बसेरा 
वन विभाग का कहना है कि नोएडा लगभग शहरी क्षेत्र में तब्दील हो गया है। हरनंदी के डूब क्षेत्र में भी कॉलोनियां काटी जा चुकी हैं। निर्माण कार्य अधिक होने के कारण वन्यजीव पलायन कर ग्रेटर नोएडा के ग्रामीण क्षेत्रों को निवास बना लिए हैं।

इन गांवों में मिले हैं काले हिरण
विभाग की गणना में मुर्सदपुर, सैंथली, कोंडली व कोट पुल सहित कुछ गांवों में काले हिरण मिले हैं। इसमें वनरोज, जंगली सुअर, लंगूर, बंदर, लोमड़ी, सियार, मोर, सेही व गोह आदि वन्यजीव शामिल हैं।

राष्ट्रीय पक्षी मोर को भी सहेज रहा ग्रेटर नोएडा
काले हिरण के साथ ही राष्ट्रीय पक्षी मोर को भी ग्रेटर नोएडा का ग्रामीण इलाका सहेजने में कामयाब है। पिछले आठ वर्षों में मोर की संख्या भी लगभग तीन गुना बढ़ी है। वर्ष 2011 में सिर्फ 113 मोर थे। अब इनकी संख्या 316 हो गई है। इनमें 106 नर, 167 मादा व 43 बच्चे शामिल हैं।

वन्यजीवों को सुरक्षित करने का भेजा प्रस्ताव
वन विभाग करीब 536 वन्यजीवों की संख्या बढ़ने से काफी उत्साहित है। इसलिए इन्हें सुरक्षा प्रदान करने के लिए जंगलों में अधिक पौधरोपण व तालाब की खुदाई समेत अन्य सुझावों का एक प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा था। पहले भी विभाग ने प्रस्ताव भेजा था, लेकिन उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

वन्यजीव का नाम    वर्ष 2011     वर्ष 2019
काले हिरण                 122            248
लोमड़ी                        19              44
चीतल                        44               19
जंगली बिल्ली              00               56
सियार                     160               147
जंगली सुअर                58              304
मोर                         113               316
नीलगाय                   1939            1094
बंदर                         952              1430
लंगूर                         00                  31
वनगाय                     00                 215
अन्य वन्यजीव           285               324
कुल                         3692              4228

अधिकारी का पक्ष 
मई में वन्यजीवों की हुई गणना में काले हिरन व मोर की संख्या में चौकाने वाला इजाफा हुआ है। वन्यजीवों को सुरक्षित करने के लिए शासन को प्रस्ताव बना कर भेजा गया है। विभाग वन्यजीवों की सुरक्षा को लेकर सतर्क है। शिकार करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com