18 लाख की लूट में शामिल एमसीडी के पूर्व अधिकारी का बेटा गिरफ्तार

– हत्या की दो वारदात में रहा है शामिल, एक मामले में पत्नी के साथ जा चुका है जेल

– एमसीडी में कांट्रेक्ट पर सफाई कर्मचारी के रूप में कर चुका है काम जागरण संवाददाता, नई दिल्ली : इंद्रप्रस्थ पार्क के पास 29 अगस्त 2018 को 18 लाख रुपये की लूट के मामले में स्पेशल सेल ने एमसीडी के सेवानिवृत्त अधिकारी के बेटे को राजस्थान के अलवर से गिरफ्तार किया है। उसकी पहचान नंद नगरी निवासी दिनेश कुमार उर्फ दीनू के रूप में हुई है। वह खुद भी दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) में कांट्रेक्ट पर सफाई कर्मचारी के रूप में काम कर चुका है। प्रॉपर्टी विवाद के चलते हत्या के दो मामलों में वह जेल भी जा चुका है। दिनेश की दो पत्नी और छह बच्चे हैं। हत्या के एक मामले में उसकी एक पत्नी भी उसके साथ जेल गई थी।

डीसीपी पीएस कुशवाहा ने बताया कि पिछले वर्ष अगस्त में पांच बदमाशों ने हथियारों के बल पर एक कंपनी कर्मचारी से इंद्रप्रस्थ पार्क के पास 18 लाख रुपये लूट लिए थे। कर्मचारी गाजीपुर स्थित कंपनी के ऑफिस से नकदी लेकर दरियागंज जा रहा था। सनलाइट थाना पुलिस ने मामला दर्ज करके जांच शुरू की। इस मामले में स्पेशल सेल को भी जांच के लिए लगाया गया। 28 मई को स्पेशल सेल ने मुठभेड़ के बाद लूट में शामिल एक बदमाश को खजूरी खास फ्लाईओवर के पास से गिरफ्तार किया था। उस समय लूट में शामिल रहा दिनेश कुमार उर्फ दीनू भागने में कामयाब हो गया था। पकड़े गए बदमाश की पहचान करावल नगर के रहने वाले रोहताश के रूप में हुई थी। इसके बाद स्पेशल सेल ने दिनेश और बाकी बदमाशों को पकड़ने के लिए मुखबिरों को सक्रिय किया। आठ जून को सूचना मिली कि दिनेश अलवर में अपने रिश्तेदार के घर छिपकर रह रहा है।

दिनेश को पकड़ने के लिए इंपेक्टर रविद्र कुमार त्यागी और अजय कुमार के नेतृत्व में एसआइ विकास दीप, एएसआइ राजकुमार, उमेश कुमार, नरेंद्र, कांस्टेबल कुलदीप, सुमित और कपिल की टीम को अलवर रवाना किया गया। स्थानीय पुलिस की मदद से अलवर में शिवाजी पार्क स्थित उसके रिश्तेदार के घर छापा मारा गया, लेकिन वह वहां नहीं मिला। टीम को सूचना मिली कि दिनेश नारनौल-बहरोड गोलचक्कर के पास देखा गया है जहां से उसे दबोच लिया गया।

पूछताछ में उसने बताया कि वह प्रापर्टी विवाद के चलते हत्या के दो मामलों में जेल गया है। जेल में रहते हुए उसकी मुलाकात मुथूट फाइनेंस लूट मामले में तिहाड़ जेल में बंद बदमाश रोहताश व राजू से हुई थी। वहां उन्होंने लूट की योजना बनाई थी और 29 अगस्त को लूट को अंजाम दिया। स्पेशल सेल फिलहाल लूट में शामिल अन्य बदमाशों की तलाश कर रही है।