अलीगढ़ हत्याकांड – पीड़ित बच्ची के परिजन ने खुदकुशी की धमकी दी

  • दो साल की बच्ची की हत्या के बाद आक्रोश, वकीलों का आरोपियों की पैरवी से इनकार
  • अलीगढ़ में बच्ची को इंसाफ दिलाने के लिए लोगों ने कैंडल मार्च निकाला
  • मुख्य आरोपी जाहिद और असलम को जेल भेजा गया, पीड़ित परिवार ने कहा- फांसी दी जाए

अलीगढ़. उत्तरप्रदेश के अलीगढ़ में दो साल की बच्ची की निर्मम हत्या के मामले में पुलिस ने शनिवार को मुख्य आरोपी जाहिद के भाई और मां को गिरफ्तार कर लिया। जाहिद और उसके साथी असलम को पहले ही पकड़ा जा चुका है। पुलिस के मुताबिक, जाहिद और असलम शातिर किस्म के अपराधी हैं। असलम पर अपनी ही बेटी से दुष्कर्म, अपहरण और गुंडा एक्ट समेत पांच केस दर्ज हैं। पीड़ित परिवार ने कहा है कि आरोपियों को 24 घंटे में फांसी दी जाए नहीं तो थाने के सामने खुदकुशी कर लेंगे।

दूसरी ओर, हत्याकांड को लेकर टप्पल इलाके में रोष है। शुक्रवार रात पीड़ित परिवार को इंसाफ दिलाने के लिए लोगों ने कैंडल मार्च निकाला। वकीलों ने भी आरोपियों की पैरवी करने से इनकार दिया है। बच्ची का शव 2 जून को कूड़े के ढेर में पड़ा मिला था। बच्ची के दादा से 10 हजार रुपए के लेनदेन विवाद में आरोपी जाहिद ने 30 मई को उसका अपहरण कर लिया था।

मुख्य आरोपी को सट्टा किंग बुलाते हैं दोस्त

एडीजी आनंद कुमार ने बताया कि बेटी से दुष्कर्म के मामले में जमानत पर छूटने के बाद असलम ने कस्बे में एक महिला से छेड़छाड़ की थी। दिल्ली के गोकुलपुरी थाना क्षेत्र से उसके खिलाफ एक बच्चे का अपहरण का मामला दर्ज है। टप्पल थाने में उस पर गुंडा एक्ट के तीन केस दर्ज हैं। असलम कुछ दिन पहले ही जमानत पर छूटा था। दूसरी ओर, मुख्य आरोपी जाहिद जुआरी है, दोस्त उसे सट्टा किंग के नाम से भी बुलाते हैं।

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट पर सवाल उठ रहे

पुलिस और स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि बच्ची से दुष्कर्म नहीं हुआ। हालांकि, परिवार ने दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका जताई थी। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक, बच्ची के शरीर से किडनी, पेशाब की थैली और प्राइवेट पार्ट गायब मिला है। सीएमओ एमएल अग्रवाल ने बताया कि वेजाइनल स्वैब को जांच के लिए लैब भेजा गया है।

परिवार ने कहा- इंसाफ नहीं मिला तो खुदकुशी कर लेंगे
बच्ची के परिवार ने आरोपियों को मौत की सजा देने की मांग की है। उनका कहना है कि अगर 24 घंटे के भीतर आरोपियों को फांसी नहीं दी गई तो वे थाने पहुंचकर खुदकुशी कर लेंगे। दूसरी ओर, शुक्रवार रात अलीगढ़, वाराणसी और कई शहरों में पीड़ित बच्ची को इंसाफ दिलाने के लिए कैंडल मार्च निकाला गया। अलीगढ़ के वकीलों ने आरोपियों का केस लड़ने से इनकार कर दिया है।

10 हजार रुपए के विवाद में हुई हत्या
पुलिस ने बताया कि आरोपी जाहिद और असलम पर पाॅक्सो एक्ट और राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) की कार्रवाई की गई है। जाहिद का बच्ची के दादा से 10 हजार रुपए के लेनदेन को लेकर विवाद था। 2 जून (रविवार) की सुबह बच्ची का शव कूड़े के ढेर में क्षत-विक्षत हालत में मिला था। वह तीन दिनों से गायब थी। इस मामले में पांच पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया है।

HAMARA METRO

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com