दस साल में 1 लाख का निवेश हुआ 1.60 करोड़

शेयर मार्केट में कुछ शेयरों की तकदीर ऐसे चमकती है कि लोग देखकर दंग रह जाते हैं. ऐसा ही एक शेयर है लगेज कंपनी सफारी इंडस्ट्रीज का. 4 जून 2009 को सफारी के एक शेयर की कीमत 4.21 रुपये थी और इसके दस साल बाद अब आज यानी 7 जून, 2019 को इसके शेयर का दाम बढ़कर 682 रुपये के करीब पहुंच गया है.

इसका मतलब यह है कि जिन लोगों ने 2009 में इस शेयर में 1 लाख रुपये लगाए होंगे आज उनका धन बढ़कर 1.60 करोड़ रुपये हो गया होगा. इस दौरान सेंसेक्स की बात करे तो उसमें करीब 167 फीसदी की बढ़त हुई है. 2 जून, 2009 को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज यानी बीएसई सेंसेक्स में कारोबार 15,008 के स्तर पर बंद हुआ था, आज बीएसई का कारोबार 39 हजार से ऊपर पहुंच गया है.

राकेश झुनझुनवाला ने भी किया निवेश

पिछले एक साल में सफारी इंडस्ट्रीज के शेयर में 10.45 फीसदी की बढ़त हुई है. हालांकि इस साल की शुरुआत से अब तक इसमें 14.64 फीसदी की गिरावट आई है. दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला ने भी इस शेयर में पैसा लगाया है और वे इसमें निवेश कर पिछले 4 साल में अपने एक लाख रुपये को 7.5 लाख में बदल चुके हैं.

पिछले दस साल में सफारी इंडस्ट्रीज के शेयर कीमत में 15,957 फीसदी की बढ़त हुई है, जबकि उसके समकक्ष कारोबार की दिग्गज कंपनी वीआईपी इंडस्ट्रीज के शेयर कीमत में 3,307 फीसदी की बढ़त हुई है. भारतीय बाजार में सफारी इंडस्ट्रीज का मुकाबला वीआईपी, फास्ट्रैक, सम्सोनाइट, अमेरिकन टूरिस्टर जैसी कंपनियों से है.

पिछले साल 28 अगस्त को सफारी इंडस्ट्रीज का शेयर अपने 52 हफ्ते के सर्वोच्च स्तर 1,005 रुपये पर पहुंच गया था. पिछले ही साल 6 जून को सफारी का शेयर अपने 52 हफ्ते के सबसे निचले स्तर 580 रुपये पर पहुंच गया था.

पिछले 10 साल में कंपनी ने कंपनी का वित्तीय प्रदर्शन लगातार बेहतर रहा है. मार्च 2019 में खत्म वित्त वर्ष में कंपनी का शुद्ध मुनाफा बढ़कर 26.98 करोड़ रुपये तक पहुंच गया, जबकि दस साल पहले मार्च 2010 वाले वित्त वर्ष में कंपनी को सिर्फ 1.93 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था. कंपनी की बिक्री भी लगातार बढ़ती जा रही है.

सफारी इंडस्ट्रीज (इंडिया) लिमिटेड लगेज ट्रैवल गुड्स की मैन्युफैक्चरिंग और बिक्री करती है. यह सूटकेस, ब्रीफकेस, लैपटॉप बैग, बैकपैक आदि बनाती है.

HAMARA METRO

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com