मंदिर में दर्शन कर पिता ने 2 मासूम बेटियों को झील में फेंका, युवक ने बहादुरी दिखाते हुए दोनों बहनों को बचा लिया

चमकौर का परिवार मंदिर में दर्शन कर लाठियानी कस्बे से झील के रास्ते बोट में सवार होकर वापस गांव लौट रहा था. तभी अचानक चमकौर सिंह ने अपनी 12 वर्षीय बड़ी बेटी और 5 वर्षीय छोटी बेटी को भी झील में धक्का दे दिया.

हिमाचल प्रदेश के बंगाणा में एक शख्स ने दिल दहला देने वाली वारदात को अंजाम दे डाला. उसने अपनी दो मासूम बेटियों को बोट से एक झील में धक्का दे दिया. उस शख्स की ये हरकत देखकर एक युवक ने बहादुरी दिखाते हुए झील में छलांग लगाई और दोनों बहनों को बचा लिया. घटना के बाद भीड़ ने आरोपी को घेर लिया और उसकी पिटाई करने की कोशिश की, लेकिन दोनों बेटियों ने ही उस शख्स को बचा लिया.

आरोपी का नाम चमकौर सिंह है. वह पंजाब के लुधियाना में सदवां गांव का रहने वाला है. सोमवार को चमकौर सिंह अपने और अपने भाई के पूरे परिवार समेत बाबा बालक नाथ मंदिर दियोटसिद्ध में दर्शन करने आया था. उसके साथ उसकी पत्नी, दो बेटियां और बेटा था. इसके अलावा उसके भाई, भाभी और उनके दो बच्चे भी साथ थे.

ये सभी मंदिर में दर्शन कर लाठियानी कस्बे से झील के रास्ते बोट में सवार होकर वापस गांव लौट रहे थे. चश्मदीदों के अनुसार जब मोटर बोट बिल्कुल झील के बीच में थी, तभी अचानक चमकौर सिंह ने अपनी 12 वर्षीय बड़ी बेटी और 5 वर्षीय छोटी बेटी को भी झील में धक्का दे दिया.

उसी नाव में लाठियानी का रहने वाला युवक सुनील कुमार भी सवार था. जब लड़कियां झील में डूबने लगी तो सुनील झील में कूद गया और दोनों लड़कियों को बचा लिया. घटना के बाद बोट में बैठे अन्य यात्रियों ने चमकौर को पकड़ लिया. लोगों ने उसे पीटना चाहा तो दोनों बेटियों ने ही लोगों से उसके पिता को छोड़ने की गुहार लगाई.

इसी दौरान किसी ने स्थानीय पुलिस को सूचना दे दी. पुलिस ने मौके पर जाकर आरोपी चमकौर सिंह को गिरफ्तार कर लिया. आरोपी की पत्नी और भाई ने चमकौर को मानसिक रोगी बताया. जब पुलिस ने इस संबंध में दस्तावेज मांगे तो वे कुछ नहीं दिखा पाए. अब पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है. घटना के बाद से दोनों बच्चियां डरी हुई हैं.

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com