भारत की आधी आबादी SILENT KILLER की जकड़ में

साइलेंट किलर ने भारत की लगभग ५०% आबादी को अपनी जकड़ में ले लिया हैं। अब डायबिटीज़ को साइलेंट किलर नाम दिया गया हैं क्योंकि अधिकतर लोग अपने शरीर में फैल रहे इस बिमारी को पहचान ही नहीं पाते। ये धीरे-धीरे शरीर के सभी अंगों को नाकाम कर देता हैं।

 भारत में 15 से 49 आयु वर्ग के केवल आधे वयस्क अपनी डायबिटीज यानी मधुमेह की स्थिति के बारे में जानते हैं। इस बीमारी से ग्रस्त सिर्फ एक चौथाई लोगों को इलाज मिल पाता है और उनका ब्लड शुगर नियंत्रण  में रहता है। एक नए अध्ययन में यह बात सामने आई है कि मधुमेह से निपटने के लिए सबसे पहले लोगों को इसके बारे में जानकारी होना जरूरी है। लेकिन, इससे ग्रस्त 47.5 फीसद लोगों को अपनी बीमारी के बारे में पता ही नहीं होता। इस कारण उन्हें इलाज नहीं मिल पाता। डायबिटीज से ग्रस्त ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले गरीब और कम शिक्षित लोगों को सबसे कम देखभाल मिल पाती है।

इस अध्ययन में राष्ट्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार सर्वेक्षण के वर्ष 2015-16 के आंकड़ों का उपयोग किया गया है, जिसमें 29 राज्यों एवं सात केंद्र शासित प्रदेशों के 15-49 वर्ष के 7.2 लाख से अधिक लोग शामिल थे। यह अध्ययन नई दिल्ली स्थित पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन और अन्य संस्थाओं ने मिलकर किया है। शोधकर्ताओं ने पाया कि मधुमेह से पीड़ित 52.5 फीसद लोग अपनी बीमारी की स्थिति के बारे में जानते हैं। लगभग 40.5 फीसद लोगों ने बताया कि वे इससे नियंत्रण में रखने के लिए दवा ले रहे हैं। जबकि, कुल मधुमेह ग्रस्त लोगों में से सिर्फ 24.8 फीसद लोगों का मधुमेह नियंत्रण में पाया गया है।

इसी कारण लोग जल्दी इस रोग का घर बन जाते हैं। अत: ऐसे में यह आवश्यक है कि लोग समय-समय पर अपना ब्लड टेस्ट करवाते रहे।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com