दावेदारों की एक और परीक्षा, सोशल मीडिया पर 20 हजार फॉलोअर का टारगेट

 

 

भोपाल । विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के दावेदारों की पार्टी निरंतर परीक्षा ले रही है। अब कांग्रेस ने टिकटार्थियों की भीड़ में ऐसे लोगों के दावे को मजबूत मानने की शर्त रख दी है जिनके ट्वीटर-फेसबुक पर कम से कम 20 हजार फालोअर होंगे। व्हाट्सअप पर उनकी सक्रियता होने पर दावेदारी को ठोस माना जाएगा।

प्रदेश कांग्रेस इस बार विधानसभा चुनाव में प्रत्याशियों के चयन को लेकर जनता के बीच पैठ रखने वाले दावेदारों की परख के लिए कई परीक्षाएं ले रही हैं। अब मौजूदा विधायकों, दावेदारी करने वाले पूर्व विधायकों और अन्य नेताओं से 15 सितंबर तक सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने वाले नेताओं का डाटा तैयार किया जा रहा है।

इसके लिए सभी शहर व ग्रामीण जिला अध्यक्षों को पीसीसी की तरफ से एक पत्र जारी किया गया है। उन्हें अपने क्षेत्र की विधानसभा सीटों के दावेदारों से उनके ट्वीटर-फेसबुक फालोअर्स की संख्या और व्हाट्सअप पर सक्रियता की जानकारी मांगी गई है। सभी दावेदारों से यह जानकारी लेकर 15 सितंबर तक पीसीसी भेजने के निर्देश दिए गए हैं।

दिग्गज इस मामले में आगे

कांग्रेस के दिग्गज सोशल मीडिया फ्रेंडली हैं। ट्वीटर पर जहां सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया अपनी पार्टी के नेताओं में सबसे आगे हैं तो फेसबुक में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की फालोअर्स की संख्या बहुत ज्यादा है।

फेसबुक पर फॉलोअर्स की संख्या

10, 22, 681 – दिग्विजय सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री

3,52,801 – ज्योतिरादित्य सिंधिया, सांसद

1,29,540 – कमलनाथ, पीसीसी अध्यक्ष

77, 655 – अजय सिंह, नेता प्रतिपक्ष

71, 163 – अरुण यादव, पूर्व पीसीसी अध्यक्ष

3,298 – सुरेश पचौरी, पूर्व केंद्रीय मंत्री

ट्वीटर पर फॉलोअर्स

12 लाख से ज्यादा – सिंधिया

01 लाख से ज्यादा – कमलनाथ

83,800 – दिग्विजय सिंह

26,700 – अरुण यादव

22,800 – अजय सिंह

2,753 – सुरेश पचौरी

दावेदार की ताकत का आकलन होगा

जिला अध्यक्षों से क्षेत्र की विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ने को इच्छुक दावेदारों की ताकत का आकलन करने के लिए सोशल मीडिया के माध्यम को चुना है। इसमें दावेदारों को फालो करने वाले की संख्या से उनकी मैदानी पकड़ का अंदाज लगाया जा सकेगा – चंद्रप्रभाष शेखर, संगठन प्रभारी उपाध्यक्ष, पीसीसी

Source:Agency