देश को बचाने का अंतिम प्रयास ‘जनसंख्या नियंत्रण कानून’ राष्ट्र निर्माण संगठन द्वारा आयोजित भारत बचाओ महा रथयात्रा

देश को बचाने का अंतिम प्रयास ‘जनसंख्या नियंत्रण कानून’ राष्ट्र निर्माण संगठन द्वारा आयोजित भारत बचाओ महा रथयात्रा

“हम दो, हमारे दो तो सबके दो”

शहज़ाद अहमद – नई दिल्ली 
देश की खतरनाकरूप से बढ़ती असंतुलित जनसंख्या वृद्धि दर कोरोकने के लिए एक कठोर और प्रभावशाली’जनसंख्या नियंत्रण कानून’ के निर्माण के उद्देश्य सेसरकार  एवं विपक्ष पर जनदबाव के लिए ‘राष्ट्रनिर्माण संगठन’ द्वारा 70 दिवसीय ‘भारत  बचाओमहा रथयात्रा ‘  का आयोजन किया जा रहा है।  नईदिल्ली स्थित प्रेस क्लब में आयोजित एक वृहतसंवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी देते हुएसंगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ,समाजसेवी एवं वरिष्ठ पत्रकार सुरेश चव्हाणके ने कहा कि यह महा रथयात्रा 18 फरवरी को जम्मू से शुरू होकर देश भर केसभी प्रमुखराज्यों से गुजरती हुई 22  अप्रैल को नईदिल्ली में सम्पन्न होगी। यात्रा की आवश्यकता परचर्चा करते हुए सुरेश चव्हाणके ने कहा किजनसांख्यिक असंतुलन के कारणदेश की एकता, अखंडता, सम्प्रभुता तथा लोगों की धार्मिक स्वतंत्रता के अधिकारों पर गंभीर खतरा उत्पन्न हो गयाहै। देश में बहुसंख्यक हिंदू समाज कीजनसंख्या  तेजी से  घटती जा रही है और देश काजनसांख्यिकीय अनुपात इस कदर बिगड़ गया है किकई राज्यों में पूर्ण रूप से और  कुछ राज्यों में क्षेत्रीयस्तर पर हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुका है। सनद रहे किसन् 1947 में देश का बंटवारा धर्म के आधार पर हीहुआ था। हालांकि करोड़ों लोगों की लाशें बिछाकरहुए विभाजन के बावजूद भारत धर्म निरपेक्ष ही बनारहा है। आज एक बार फिर वैसी ही चुनौती देश केसामने पैदा होती जा रही है जहाँ एक और विभाजनकी आशंका प्रबल हो उठी  है। जहाँ  एकओर बहुसंख्यक हिंदू समाज परिवार कल्याण कोअपना कर कम बच्चे पैदा कर सरकार की नीतियोंका अनुसरण कर रहा है, तो दूसरी ओरअल्पसंख्यक समाज में अनियंत्रित जन्मदरआदर्श जनसांख्यिकीय अनुपात के लिए गंभीरखतरा उत्पन्न कर रहा है। ध्रुवीय सत्य हैकि हिंदुस्तान की सुरक्षा तभी संभव है, जब देश कामौलिक आदर्श जनसांख्यिकीय अनुपात अक्षुण्णरहे।  इसीलिए हमने नारा दिया है –