60 साल का क्रिकेट करियर, 85 वर्ष की उम्र में लिया क्रिकेट से संन्यास

85 वर्ष की उम्र में कोई क्रिकेट खेल रहा है तो इस बात पर शायद ही किसी को विश्वास हो। पर ये सच है क्योंकि ऐसा करिश्मा करने वाले क्रिकेटर हैं वेस्टइंडीज के सेसिल राइट (Cecil Wright)। सेसिल एक तेज गेंदबाज हैं जो गैरी सोबर्स, गारफील्ड सोबर्स, वेस्ले हॉल व विवियन रिचर्ड्स के जमाने से ही क्रिकेट खेलते आ रहे हैं। ये सारे के सारे दिग्गज कब का मैदान छोड़ चुके हैं, लेकिन सेसिल अब तक क्रिकेट खेल रहे थे और आखिरकार 85 वर्ष की उम्र में उन्होंने क्रिकेट से रिटारयमेंट का एलान कर दिया है।

सेसिल वेस्टइंडीज के कई महान खिलाड़ियों के साथ खेल चुके हैं। वो जोएल गार्नर के साथ तो खेले ही थे साथ ही साथ बारबादोस के लिए जमैका के खिलाफ खेलते हुए वेस्ले हॉल को भी गेंदबाजी की थी। 1959 में वह इंग्लैंड में सेंट्रल लंकाशायर लीग में क्रांप्टन के लिए भी खेले. इसके बाद 1962 में उन्होंने स्थायी रूप से इंग्लैंड में ही बसने का मन बना लिया और प्रोफेशनल क्रिकेटर के तौर पर करियर शुरू किया।सेसिल राइट (Cecil Wright retirement) 60 वर्ष तक सक्रिय क्रिकेट खेलते रहे और इस दौरान उन्होंने 7000 से ज्यादा विकेट लिए। वो विकेट लेने में इतने तेज थे कि पांच सीजन में ही उन्होंने 538 विकेट अपने नाम किए थे और उस दौरान उनका औसत 27 का रहा था।

सेसिल राइट ने संन्यास का एलान करते समय कहा कि अब समय आ गया है कि मैं अपने करियर को विराम दे दूं। एक अखबार से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि मुझे खुद नहीं पता कि इतने लंबे वक्त तक मेरे खेलने के पीछे की वजह क्या है। मैं इसके बारे में नहीं जानता तो आपको भी नहीं बता पाउंगा। जब उनसे पूछा गया कि आपने कितने मैच खेले हैं तो उन्होंने जवाब दिया कि मुझे याद नहीं पर शायद बीस लाख। हालांकि ऐसा संभव तो नहीं लगता, लेकिन ऐसा जरूर हो सकता है कि उन्होंने कई हजार मैच खेले होंगे।

सेसिल ने अपनी फिटनेस के बारे में बताया कि लंकाशायर का पारंपरिक खाना उन्हें काफी पसंद है और वो ज्यादा शराब का सेवन नहीं करते हैं। हालांकि खुद को फिट रखने के लिए वो कभी-कभी शराब का सेवन करते हैं। उनका कहना है कि वो घर में बैठकर टीवी के सामने समय बिताना पसंद नहीं करते हैं। इसकी बजाय वो बाहर निकलकर घूमना पसंद करेंगे। दुनिया का ये अजूबा क्रिकेटर अपना आखिरी मुकाबला 7 सितंबर को खेलेगा। वो रमिल के लिए स्प्रिंगहेड खिलाफ आखिरी बार मैदान पर उतरेंगे। सचमुच ऐसे हौसले वाले खिलाड़ी को सलाम है।