POK में आतंकी ने आर्टिकल 370 पर दिया बड़ा बयान

जम्‍मू-कश्‍मीर से अनुच्‍छे 370 के प्रावधान हटाए जाने के बाद से पाकिस्‍तान बौखलाया हुआ है। एक-दो को छोड़कर लगभग सभी देश इसे भारत का आंतरिक मामला बता रहे हैं। ऐसे में अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर समर्थन न मिलता देख, पाकिस्‍तान ने अपना वहीं पुराना नापाक रास्‍ता इख्तियार कर लिया है। खबर है कि पाकिस्‍तान सरकार आतंकियों की मदद कर भारत में जिहाद छेड़ने के लिए भड़का रही है। पाक अधिकृत कश्‍मीर के एक वीडियो में पाकिस्‍तान के ये नापाक इरादे जाहिर हो गए हैं, जिसमें आतंकी एकजुट होकर भारत के खिलाफ किसी बड़े हमले की तैयारी कर रहे हैं। हिज्‍बुल आतंकी खालिद सैफुल्‍लाह का कहना है कि शायद जंग की स्थिति में पाकिस्‍तान का वजूद खतरे में पड़ जाए। इसके बावजूद मुस्लिमों का अस्तित्‍व कायम रहेगा।

जिहाद छेड़ने की धमकी
पाकिस्‍तान हिज्बुल मुजाहिद्दीन और यूनाइटेड जिहाद काउंसिल जैसे आतंकी संगठन, जिसका सरगना सैयद सलाउद्दीन है उसकी मदद कर कश्‍मीर में आतंकवाद फैलाने की फिराक में है। पीओके के मुजफ्फराबाद में गुरुवार को हिज्‍बुल मुजाहिद्दीन के खालिद सैफुल्‍लाह और नेब अमीर प्रेस क्‍लब के सामने विरोध प्रदर्शन करते नजर आए। विरोध प्रदर्शन के दौरान ये आतंकी भारत के खिलाफ जिहाद छेड़ने के नारे भी लगा रहे थे। सैयद सलाउद्दीन ने इस दौरान कहा, ‘शब्‍दों से ज्‍यादा वार कारगर होता है। मेरे दोस्‍तों, हम सभी जिहाद के लिए तैयार हैं।’ वहीं सैफुल्‍लाह ने कहा कि हम सभी आपके साथ हैं। इस प्रदर्शन का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसे पीओके में सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है।
सैफुल्‍लाह को शायद इस बात का इल्‍म है कि भारत के साथ अगर पाकिस्‍तान जंग करता है, तो उसका वजूद खत्‍म भी हो सकता है। उन्‍होंने कहा, ‘शायद जंग की स्थिति में पाकिस्‍तान का वजूद खतरे में पड़ जाए। इसके बावजूद मुस्लिमों का अस्तित्‍व कायम रहेगा, क्‍योंकि विश्‍व में कई मुस्लिम देश मौजूद हैं, लेकिन भारत एक है और हिंदुत्‍व को हम विश्‍व के नक्‍शे से मिटा देंगे।’ बता दें कि पाकिस्‍तान में इस तरह के विरोध प्रदर्शन और रैलियां इन दिनों आम हो गई हैं। इन प्रदर्शनों में कई आतंकी भी शामिल होते हैं, लेकिन सरकार का समर्थन होने के कारण ये बैखोफ नजर आते हैं।
बता दें कि सैफुल्ला ने राजीव गांधी के समय भी भारत को धमकी देने के लिए पूर्व राष्ट्रपति जिया उल-हक की तारीफ की थी। सैफुल्ला ने पहले कहा था- ‘राजीव आप पाकिस्तान पर आक्रमण करना चाहते हैं? ठीक है, आगे बढ़िए, लेकिन कृपया एक बात याद रखें कि उसके बाद लोग चंगेज खान और हिलाकू खान को भूल जाएंगे। जिया और राजीव गांधी को याद करेंगे, क्योंकि यह एक पारंपरिक जंग नहीं होगी।

प्रधानमंत्री इमरान खान ने गुरुवार को कश्मीर मुद्दे पर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की चुप्पी पर सवाल उठाते हुए गंभीर विद्रोह और प्रतिक्रियाओं की चेतावनी दी। साथ ही कहा कि अगर अतंरराष्ट्रीय समुदाय इस मुद्दे पर चुप रहता है तो वह गुलाम कश्मीर (PoK) में मुसलमानों के एक और स्रेब्रेनिका जैसा नरसंहार की अनुमति दे देगा। खान का ये संदेश भारत के स्वतंत्रता दिवस पर आया, जिसे पूरे पाकिस्तान में काले दिन के रूप में मनाया जा रहा था। पाकिस्तान में समाचार पत्रों ने काले रंग के बॉर्डर के साथ खबरें छापी वहीं पाकिस्तान के पीएम इमरान खान सहित कई नेताओं ने अपने सोशल मीडिया पर अपनी तस्वीरों पर काले रंग का बॉर्डर लगाया हुआ था। इतना ही नहीं पाकिस्तान ने सरकारी भवनों पर लगे झंडों को भी आधे में उड़ाया। आतंकवादी समूह हिज्बुल मुजाहिदीन के 1,000 से अधिक समर्थकों ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद में मार्च किया, काले झंडे लहराए और भारत विरोधी नारे लगाए।
दरअसल, पाकिस्‍तान को अब कोई रास्‍ता नजर नहीं आ रहा है। ऐसे में पाकिस्‍तान, आतंकियों के सहारे जम्‍मू-कश्‍मीर में अशांति फैलाने की फिराक में है। हालांकि, भारतीय सेना ने जम्‍मू-कश्‍मीर में मोर्चा संभाला हुआ है। सेना हर मुमकिन खतरे के लिए तैयार है।