ये चीजें करने से बचेंगे तो ही आगे बढ़ेंगे

ये चीजें करने से बचेंगे तो ही आगे बढ़ेंगे

 

किसी भी काम को करने से पहले उसके सफल या असफल होने के बारे में नहीं सोचना चाहिए। काम को जारी रखना चाहिए। आपके द्वारा काम के प्रति लगाव ही कामयाबी का मंत्र होगा।

अपने रोजमर्रा के कामों के दौरान हम आदतन कुछ काम ऐसे करते रहते हैं, जिन्हें करते हुए हम ना केवल अपने काम को प्रभावित करते हैं, बल्कि खुद भी तनाव में रहते हैं। वहीं, यदि हम अपनी ऐसी कुछ आदतों को छोड़ दें या ऐसे काम ना करें तो इसका परिणाम स्वत: ही हमारे काम की उत्पादकता पर नजर आएगा। ऐसा करने से निश्चय ही हम पहले से ज्यादा खुश भी रह सकेंगे।

बार-बार फोन चेक करना
किसी से बात करते समय बार-बार अपने फोन को मत देखें। साथ ही उस दौरान किसी के मैसेज का जवाब देने न लग जाएं। हालांकि ऐसा करने से सामने वाला कुछ नहीं कहेगा, लेकिन अवश्य ही उसे अच्छा नहीं लगेगा और इससे आपकी बातचीत पर भी नकरात्मक प्रभाव पड़ेगा।

गैर जरूरी लोगों के बारे में सोचना 
जिन लोगों के बारे में सोचने से आपकी काम में कोई तरक्की या आपकी जिंदगी में कोई उपलब्धि नहीं होगी, उनके बारे में सोचकर  समय न बर्बाद करें। आपके लिए आपके परिवारजन या दोस्त ही ऐसे लोग हैं, जिन्हें असलियत में आपके अटेंशन की जरूरत है।

काम के बीच मेल देखना
अपने फोन या सिस्टम पर हर मेसेज, पॉप अप ट्वीट या इमेल को तुरंत देखने की भी कोई जल्दबाजी नहीं होनी चाहिए। जिस काम को कर रहें हैं उसे पूरे ध्यान से करें, इसलिए पहले जो काम कर रहे हैं उसे समाप्त कर लें फिर उन्हें चेक करें।

पुराने विचारों में ही डूबे रहना
गलतियां बहुमूल्य होती हैं। उनसे सीख लें, लेकिन उनसे सीख लेकर उन्हें पीछे छोड़ दें। हालांकि आप कह सकते हैं कि यह कहना आसान और करना कठिन है, लेकिन यह सब भी सोच पर निर्भर करता है। जब कुछ गलत घटित होता है, उसे कुछ नया सीखने का अवसर मान आगे बढ़ जाएं। हमारा पुराना समय हमारे लिए एक अच्छे प्रशिक्षक जैसा काम करता है। इससे हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है।

अच्छे काम के लिए इंतजार करना 
किसी काम को करने के लिए तब तक इंतजार करना, जब तक आपको यह न लगे कि आप कामयाब हो जोएंगे, यह सोच गलत है क्योंकि आप किसी भी काम को करते समय यह नहीं कह सकते कि आप उसमें कामयाब हो ही जाएंगे।

किसी की पीठ पीछे बुराई करना 
ऐसा करने से कहीं अच्छा है कि आप अपने समय को कुछ रचनात्मक या काम की बातों में लगाएं। इससे न केवल आपके काम में प्रगति होगी, बल्कि आपको दूसरों से सम्मान भी मिलेगा।

ना की जगह हां कहना 
हालांकि अपने किसी दोस्त, ग्राहक या सहकर्मी को कई बार किसी काम के लिए मना करना मुश्किल होता है, लेकिन इसमे कोई बुराई नहीं। ज्यादातर लोग इसे समझेंगे, और जो नहीं समझेंगे उनके बारे में ज्यादा सोचने की आवश्यकता नहीं है। ऐसी स्थिति में यदि आप ना कहेंगे तो आपको थोड़ी देर के लिए बुरा लगेगा, लेकिन यदि आप हां कहेंगे तो आपको ज्यादा समय के लिए बुरा लग सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com